IQNA

17:37 - September 10, 2018
समाचार आईडी: 3472872
अंतर्राष्ट्रीय समूहः अधिकांश भारतीय राज्यों में बढ़ती मुस्लिम आबादी के बावजूद, पिछले कुछ दशकों में देश में न्यायिक पदों पर उनका हिस्सा तेज़ी से गिर गया है।

अंतर्राष्ट्रीय कुरआन समाचार एजेंसी(IQNA) ने इंडिन एक्सप्रेस के अनुसार बताया कि 2011में जारी आंकड़ों के मुताबिक, भारत में मुस्लिम आबादी देश की आबादी का 14.2 प्रतिशत थी। दूसरी तरफ, मुस्लिम कैदियों के आंकड़े लगभग 21 प्रतिशत थे, और जिनके अपराध लगभग 15.8 प्रतिशत साबित हुए थे, जो भारतीय पुलिस की निष्ठा और भारतीय न्यायिक प्रणाली में पेशेवर दृष्टिकोण का दोष दर्शाते हैं।
2010 से, हैदराबाद अदालत के अलावा, भारतीय सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीशों के बीच मुसलमानों का हिस्सा नाटकीय रूप से उनके जनसांख्यिकीय स्तर से नीचे गिर रहा है।
उदाहरण के लिए, पश्चिम बंगाल में, 1 99 1 में मुस्लिम न्यायाधीश 25 प्रतिशत तक पहुंच गए, 2011 में 8% तक रह ग़ए जबकि 2011 में मुस्लिम आबादी 24 प्रतिशत से बढ़कर 27 प्रतिशत हो गई। 1 9 61 में कर्नाटक के सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीशों के 67 प्रतिशत न्यायाधीश मुस्लिम थे, 2011 में 2.9 प्रतिशत की गिरावट आई है।
यह बात देश के महत्वपूर्ण राजनीतिक और न्यायिक पदों के प्रतिशत में, भारत में सबसे बड़ी अल्पसंख्यक के रूप में मुसलमानों की भूमिका का संकेत है।
3745523

नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :