IQNA

कोर्ट ने की मांग;
14:04 - March 09, 2019
समाचार आईडी: 3473388
अंतर्राष्ट्रीय समूह- भारतीय सर्वोच्च न्यायालय ने "बाबरी मस्जिद" के बारे में मुसलमानों और हिंदुओं के बीच लंबे समय से जारी संकट को हल करने के लिए तीन सदस्यीय मध्यस्थता समिति के गठन का आह्वान किया।

IQNA रिपोर्ट अल जज़ीरा समाचार साइट के अनुसार; बाबरी मस्जिद संकट को हल करने के लिए भारतीय सर्वोच्च न्यायालय के सेवानिवृत्त न्यायाधीश इब्राहिम खलीफ़तुल्लाह की अध्यक्षता में कल (8 मार्च) को भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने एक मध्यस्थता समिति के गठन का आह्वान किया।
श्री श्री रवि शंकर, हिंदूओं के आध्यात्मिक शिक्षक, और वरिष्ठ वकील और मध्यस्थता विशेषज्ञ श्री राम बांटशू, समिति के अन्य सदस्य हैं। यह मध्यस्थता पूरी तरह से गोपनीय है और मीडिया द्वारा इसकी रिपोर्ट का प्रकाशन निषिद्ध है।
बाबरी मस्जिद उत्तर प्रदेश प्रांत के अयोध्या शहर में "राम कोट" नामक एक चट्टान पर स्थित है, यह मस्जिद 1992 में चरमपंथी हिंदुओं के एक समूह द्वारा नष्ट कर दीगई थी, उस समय बाबरी मस्जिद के नष्ट होने से पूरे भारत में धार्मिक हिंसा हुई थी, जिसके दौरान लगभग 2,000 लोग मारे गए थे।
हाल के दशकों में भारत में हिंदू और मुसलमानों के बीच बाबरी मस्जिद सबसे तनावपूर्ण मुद्दों में से एक है, जिस पर सुनवाई करने वाली एकमात्र निचली अदालत थी, लेकिन 2011 के बाद भारतीय सर्वोच्च न्यायालय ने इस मुद्दे को अपने हाथ मे लिया।
भारत में बर्बाद मस्जिद के क्षेत्र में हिंदू मंदिर के निर्माण पर बहस हाल के वर्षों में जारी रही है, और कुछ पौराणिक कथाओं के अनुसार, अयोध्या शहर में बाबरी मस्जिद का स्थान "राम" का घर है, जिसका उल्लेख हिंदू धर्म के पवित्र ग्रंथों में किया गया है।
बाबरी मस्जिद के बजाय मंदिर का निर्माण भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मूदी के रूढ़िवादी सहयोगियों की मांगों में से एक है। रूढ़िवादी हिंदुओं द्वारा भारतीय संसदीय चुनाव का समय निकट होने के कारण मस्जिद के मलबे पर एक मंदिर बनाने पर अधिक जोर दिया जाने लगा है, भारत का आम चुनाव इसी साल मई में होने वाला है।
3796245
नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :