IQNA

6:00 - September 23, 2012
समाचार आईडी: 2417255
कला समूहः भारत के शहर लख़नऊ के लख़नऊ विश्वविद्यालय में ईरानी फारसी फिल्मों, कला इस्लामी साहित्य महोत्सव का आयोज किया जा रहा है.
ईरानी कुरान समाचार एजेंसी (IQNA) शाखा पश्चिम और दक्षिण-पश्चिम एशिया, के अनुसार इन फारसी फिल्मों, कला इस्लामी साहित्य महोत्सव एंव प्रदर्शनी का शुभ आरम्भ शुक्रवार 21 सितंबर को स्थानीय सय 3बजे "मालवी" सभागार में विद्वानों, प्रोफेसरों की मौजुदग़ी में किया ग़या जो 25 सितंबर तक जारी रहेगा.
ईरानी फारसी फिल्मों, कला इस्लामी साहित्य महोत्सव का की शुरूआत कुरआन की तिलावत से हुई, उसके बाद के लख़नऊ विश्वविद्यालय प्रमुख़ "मनोज मिश्र्रा" ने ईरान और भारत के बीच पुराने इतिहासिक संबंधों के बारे में बताया
और फिर इसके बाद ख्वाजा मुईनुद्दीन चिश्ती उर्दू,अरबी,फारसी विश्वविद्यालय लख़नऊ के वाइस चांसलर अनीस अंसारी, ने इस फारसी फिल्मों, कला इस्लामी साहित्य महोत्सव एंव प्रदर्शनी पर खुशी व्यक्त करे हुए कहा कि भारतिय और ईरानी लोग़ साहित्य, सांस्कृति में एक दुसरे के बहुत क़रीब हैं और यह भी कहा कि हम फ़ारसी में उचित शिक्षा के लिए अल-मुस्तफा(स0)विश्वविद्यालय से सहयोग़ के लिए बातचीत हो चुकी है और अंत में ईरानी सरकार से ग़ैस पाईप लाईन के बारे में हमारी सरकार से बातचीत कर हल करने पर बल दिया ताकि दोनो देशों के बीच और संबंध अधिक हो
मुजफ्फर अली, फिल्म लेखक और निर्देशक ने कहा: कि केवल ईरान एक एसा देश है जो सांस्कृतिक, शैक्षणिक और आध्यात्मिक फिल्मों के उत्पादन में अन्य देशों की मदद की जरूरत नहीं रख़ता है.
अंत में लख़नऊ विश्वविद्यालय में फारसी संकाय के प्रमुख़ आरिफ अय्युबी ने प्रतिभागियों और ख़ास कर इस्लामी गणराज्य ईरान के सांस्कृतिक केन्द्र के प्रमुख़ अली दहग़ाई का शुक्रिया किया और बता कि ईरानी कला और फिल्म प्रदर्शनी 25 सितंबर तक स्थानीय समय 3 बजे विश्वविद्यालय में आयोजित की जाएग़ी
1103972
नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :