IQNA

ब्रिटिश इतिहासकारों का विचित्र दावा:
19:24 - September 02, 2015
समाचार आईडी: 3357540
अंतरराष्ट्रीय समूह: ब्रिटिश इतिहासकारों ने दावा किया, ब्रिटेन "बर्मिंघम" विश्वविद्यालय में नया खोजा हुआ कुरान का संस्करण जिसके बारे में कहा जारहा है कि सबसे पुराना कुरान का संस्करण है हो सकता है कि पैगंबर मुहम्मद (PBUH)से पहले का लिखा हो.

अंतरराष्ट्रीय कुरान समाचार एजेंसी (IQNA) समाचार पत्र "डेली मेल" ब्रिटेन के अनुसार, बहुत पुराने कुरान के कुछ पन्ने पिछले सप्ताह "बर्मिंघम" विश्वविद्यालय के पुस्तकालय में एक दूसरे कुरान जो पहली शताब्दी की खोज थी की कुछ पत्तियों के अंतर्गत मिले हैं.
बर्मिंघम विश्वविद्यालय के पुस्तकालय में मौजूद वरक़ पशुओं की त्वचा पर Hijazi लेखन में लिखा जो अरबी ज़बान को प्राथमिक साधन में लिखे जाने का तरीक़ा था.
ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में रेडियोकार्बन परीक्षण के आधार पर कहा गया कि यह कुरान दुनिया में सबसे पुराना कुरान संस्करण है हो सकता है.
लेकिन अब कुछ इतिहासकारों ने दावा किया है कि यह इस पांडुलिपि हो सकता है पैगंबर के समय से पहले का हो और इस्लाम के शुरुआती दिनों में लिखा गया हो.
"टॉम हॉलैंड", अंग्रेजी इतिहासकार ने दावा किया है यह पाऐ गऐ पृष्ठ कुरान के ज़ाहिर होने के इतिहास के बारे में अनिश्चितता बनाता है और पैगंबर व उनके साथियों के इतिहास पर संदेह पैदा करता है.
इन दावों को मुस्लिम विद्वानों और शिक्षाविदों की ओर से चुनौती दी गई.
"मुस्तफा शाह" लंदन के विश्वविद्यालय (एसओएएस) के ओरिएंटल और अफ्रीकी अध्ययन के स्कूल प्रोफ़ेसर ने कहा:यदि इस कुरान की खोज में कुछ भी साबित करने के लिए है, तो यह कि यह कुरान पैगंबर (PBUH) पर उतरा और उसके बाद से कोई तब्दीली नहीं हुई है.
3354527

नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :
* captcha: