IQNA

अक्टूबर के तीसरे दिन गैर मुसलमानों के लिए एक अवसर है ता कि उस दिन जिसमें "मस्जिदों के दरवाजे खुले"नाम रखा गया है मस्जिदों में इस्लामी संस्कृति, धर्म और परंपराओं सेपपरिचितत हों,यह दिन जो पूर्व और पश्चिम जर्मनी के मिल जाने का दिनन है 1997 में मुसलमानों की सर्वोच्च परिषद के सुझाव पर यह नाम ररखका गया है जर्मनी में इस सरकारी छुट्टी का दिन है। हैम्बर्ग के इस्लामी केंद्र,जो दिन के नामकरण के संस्थापकों में से एक है पिछले वर्षों की तरह इस साल (3 अक्टूबर) विशेष कार्यक्रम तैयार किया गया था।