IQNA

ऑक्सफोर्ड शोध से पता चला:
16:59 - September 04, 2016
समाचार आईडी: 3470726
अंतरराष्ट्रीय टीम: ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में प्रोफेसरों के नए अनुसंधान परिणामों से पता चला है कि मुस्लिम महिलाऐं हिजाब का पश्चिमी जीवन के वसवसों और खतरों से मुक़ाबला करने में रणनीतिक उपयोग करती हैं।

हिजाब, सामाजिक खतरों के खिलाफ ऐक रणनीति

अंतरराष्ट्रीय कुरान समाचार ऐजेंसी (IQNA) समाचार पत्र "डेली मेल" के हवाले से, इस अध्ययन के अनुसार जो " हिजाब के पीछे: धार्मिक कवर का सामरिक उपयोग" के शीर्षक के साथ पत्रिका "यूरोप में समाजशास्त्रीय अध्ययन" ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में प्रकाशित किया गया था हिजाब, मुस्लिम महिलाओं की मदद करता है साथ ही समाज में सक्रिय रूप से भाग लेने और गैर-मुस्लिम दोस्तों से संवाद करने और काम करनें में, पश्चिमी जीवन के वसवसों और धमकियों प्रलोभनों के मुक़ाबलें में उन की रक्षा करता है।

Ozan Aksoy "और" डिएगो Gambetta, " ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय में समाजशास्त्र के प्रोफेसर इस अध्ययन के साथ चाहता हैं कि इस सवाल का जवाब दें कि "क्यों आधुनिक जीवन शैली हमेशा इस्लामी व्यवहार की कमी का सबब नहीं होती है? "

इस अध्ययन से पता चला है कि मुस्लिम महिलाओं के बीच जो एक दरमियानी धार्मिक अक़ीदा रखती हैं, शिक्षा, काम, आय है और गैर मुसलमानों के साथ संबंध हिजाब को कम कर देने का कारण है।

लेकिन उन मुस्लिम महिलाओं के बीच जो मजबूत धार्मिक अक़ीदा रखती हैं आधुनिक जीवन हिजाब के उपयोग के बढ़ने का कारण है क्योंकि वे हिजाब को उन खतरों के मुक़ाबले में जो उनकी लज्जा को धमकाते हैं एक रणनीतिक प्रतिक्रिया के रूप में प्रयोग करती हैं।

इस शोध का अंतिम परिणाम यह है कि " स्कार्फ पर प्रतिबंध मुस्लिम महिलाओं के समाज में एकीकरण के लिए योगदान नहीं देता है, बल्कि उल्टा उन्हें समाज में एकीकरण और भागीदारी से रोकता है।"

3527591

नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :
* captcha: