IQNA

14:22 - March 08, 2017
समाचार आईडी: 3471260
अंतरराष्ट्रीय समूहः बहरीन ह्यूमन राइट्स वॉच में धार्मिक स्वतंत्रता के एक प्रतिनिधि का कहना है कि इस देश की शिया मजोरटी को भेदभाव का लक्ष्य बनाया जा रहा है।

बहरीन में शिया बहुमत के खिलाफ व्यापक भेदभाव

अंतरराष्ट्रीय कुरान समाचार एजेंसी (IQNA) समाचार चैनल प्रेस टी.वी.के हवाले से, बहरीन Lv'lv 'साइट की रिपोर्ट अनुसारः शेख "मीसम सलमान ", बहरीन ह्यूमन राइट्स वॉच में धार्मिक स्वतंत्रता के प्रतिनिधि ने जिनेवा में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद की बैठक में जो कि "खाड़ी क्षेत्र में धार्मिक स्वतंत्रता"के तहत आयोजित की गई इस ओर इशारा करते हुए कि बहरीन में 65 प्रतिशत धार्मिक आबादी के खिलाफ भेदभाव हो रहा है, कहा कि बहरीन के शियाओं के लिए रोजगार अवसरों में न्याय का ख़याल नहीं किया जाता है।

शेख मीसम सलमान ने कहा विशेष रूप से सरकारी नौकरियों में शियाओं को काम देने में भेदभाव किया जाता है।

बहरीन ह्यूमन राइट्स वॉच में धार्मिक स्वतंत्रता के प्रतिनिधि ने कुछ अधिकारिक रिपोर्टों के आधार पर कहाःअधिकतम अंतरराष्ट्रीय कंपनियों ने घोषणा की है कि शिया स्टाफ को तरक़्क़ी न देने के लिए दबाव में हैं, इसी तरह सुरक्षा पदों जैसे कुछ सरकारी पदों में शियाओं को अनुमति नहीं है कि नौकरी करें।

शेख सम सलमान ने बल दिया है जब तक आले ख़लीफ़ा न्याय और समानता को अनदेखा करेंगे, देश की समस्याओं को हल नहीं किया जासकता।

नवीनतम समाचार बहरीन की राजधानी मनामा के क्षेत्र अलमआमीर में जनता के विरोध, और प्रदर्शनकारियों पर कारवाई की गवाह है।

बहरीन Sitra समाचार साइट के अनुसार, अल खलीफा शासन के बलों ने ध्वनि बम और आंसू गैस का प्रयोग करके प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने की कोशिश की है।

इस रिपोर्ट के अनुसार, बहरीन मनामा, Alnvydrat में युवा प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच झड़पें भी हुई हैं।

जब कि बहरीनी बलों ने मंगलवार को Sitra क्षेत्र में विरोधियों के घरों पर हमला करके छह लोगों को गिरफ्तार किया।

उल्लेखनीय है कि इसके बावजूद भी, शेख Issa Qassem बहरीनी प्रमुख आलिमेदीन के घर के सामने लोग उसी तरह धरना दिऐ बैठे हैं।

3582070

नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :
* captcha: