IQNA

15:20 - September 19, 2017
समाचार आईडी: 3471828
अंतर्राष्ट्रीय समूह: म्यांमार के नेता आंग सान सू ची ने रोहिंग्या के मुस्लिम आव्रजन संकट जिसे यूएन ने "जातीय सफाई" कहा है के बारे में एक जीवित टीवी शो में बात की।

सोची की चुप्पी टूटी / अंतरराष्ट्रीय समीक्षा से नहीं डरती हूं

अंतर्राष्ट्रीय कुरान न्यूज़ एजेंसी (IQNA) ने एनडीटीवी समाचार एजेंसी का हवाला देते हुऐ कहाःआंग सान सू ची ने रोहिंगिया संकट के बारे में अपनी चुप्पी तोड़ा और कहा कि अंतरराष्ट्रीय सटीक जांच से मैं नहीं डरती हूं और उनकी सरकार अब भी अपराधों के आरोपों की जांच कर रही है।

वह अपने पहले सार्वजनिक भाषण में रोहिंग्या मुस्लिम अल्पसंख्यक पर खूनी कार्रवाइयों के समय से जिसे यूएन "जातीय सफाई" कहा है, उन्होंने अपनी सरकार के थोड़े समय के पास होने के बारे में बात की।

सोची ने कहा: "मैं जानती हूं कि दुनिया का ध्यान राख़ीन की स्थित पर केंद्रित है, लेकिन अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के सदस्य के रूप में, म्यांमार अंतर्राष्ट्रीय ध्यान से डरता नहीं है

म्यांमार के नेता ने जोर दिया: हम बहुत चिंतित हैं और हम वास्तविक समस्याएं ढूंढना चाहते हैं। जिन आरोप को उठाया गया है उनकी जांच करने की आवश्यकता है।

सोची ने 30 मिनट के टेलीविज़न भाषण में कहा, कि वह इस संघर्ष में शामिल लोगों की पीड़ा से चिंतित हैं।

उन्हों ने कहाःहम यह सुन कर कि मुसलमान बांग्लादेश भाग रहे हैं चिंतित हैं, और हम यह समझना चाहते हैं कि इस प्रवास का कारण क्या है।

सोची ने इसी तरह यह दावा करते हुए कि ज्यादातर राख़ीन गांव हिंसा से सुरक्षित थे कहाः कि हम इन प्रवासियों को वापस म्यांमार में लाने के लिए तैयार हैं।

सोची के शब्दों व की रोहिंग्या के शब्दों में स्पष्ट विरोधाभास

सोची के शब्दों में म्यांमार के सैन्य के क्रूर अभियान के परिणामस्वरूप पड़ोसी बांग्लादेश में जाने वाले आप्रवासियों की गवाही में स्पष्ट विरोधाभास में हैं

इस भाषण में, सुची ने केवल एक बार ही रोहंग्या मुसलमानों के नाम का उल्लेख किया था, और वह भी जब अराकन रोहिंग्या लिबरेशन आर्मी के नाम से जाना जाने वाले रोहंग्या सैनिकों का उल्लेख किया।

रिपोर्टों से यह भी पता चलता है कि म्यानमार में सत्तारूढ़ दल की नेता आंग सूची ने इस दिवंगत प्रतिक्रिया में किसी भी मानवाधिकार के दुरुपयोग की निंदा की और कहा कि राखीन राज्य में होने वाले उल्लंघन के लिए जो व्यक्ति जिम्मेदार है कानून के प्रति जवाबदेह होना पड़ेगा।

सोची ने कहा: म्यांमार नहीं चाहता है कि अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा के लिऐ ख़तरा बने और इस संघर्ष के स्थायी समाधान के लिए प्रतिबद्ध है।

3643706

नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :