IQNA

15:50 - September 20, 2019
समाचार आईडी: 3473993
अंतर्राष्ट्रीय समूह- रूस और चीन ने उत्तरी सीरिया में सशस्त्र और आतंकवादी समूहों के खिलाफ सैन्य अभियानों को रोकने के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव को वीटो कर दिया।

IQNA की रिपोर्ट अल-आलम न्यूज़ नेटवर्क के अनुसार, रूस, चीन, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के दो स्थायी सदस्यों ने कल, 19सितंबर को सीरिया के इदलिब प्रांत में आतंकवादी और सशस्त्र समूहों के समर्थन के लिए एक सीरिया विरोधी प्रस्ताव को अस्वीकृत कर दिया।
 
जर्मनी, कुवैत और बेल्जियम द्वारा सुरक्षा परिषद में मसौदा प्रस्ताव प्रस्तुत किया गया था और इस सीरियाई प्रांत में स्थिति की समीक्षा के लिए बुलाया गया था। मसौदे में इन तीनों देशों ने सुरक्षा परिषद से नागरिकों के संरक्षण का दावा करने के उद्देश्य से इदलिब प्रांत में सैन्य अभियानों को रोकने के लिए कहा था।
 
मसौदे पर रूस के स्थायी प्रतिनिधि वासीली नेबेंजिया ने कहा: "मसौदे का उद्देश्य इदलिब में नागरिकों की हत्या के आरोप में रूस को कट्घरे में खड़ा करना और आतंकवादियों को अंततः हार से बचाना था।"
 
नौ सुरक्षा परिषद के सदस्यों ने मसौदे के पक्ष में मतदान किया, जिसे मास्को और बीजिंग के वीटो ने खारिज कर दिया।
 
सुरक्षा परिषद में रूसी दूत ने कल रात काउंसिल की बैठक में कहा कि इदलिब प्रांत में आतंकवादी संघर्ष विराम समझौते का उल्लंघन कर रहे हैं और इस प्रांत व हुमैमिम एयरबेस पर जो रूसी सैनिकों का बेस है हमला कर रहे हैं ।
 
नबेंजिया ने इस बयान के साथ कि सुरक्षा परिषद में प्रस्तुत मसौदा प्रस्ताव में आतंकवाद के मुद्दे की अनदेखी की गई है, जोर देकर कहा कि उनका देश इस तरह के प्रस्तावों का कभी समर्थन नहीं करेगा।
3843346
नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :