IQNA

14:18 - March 03, 2020
समाचार आईडी: 3474510
तेहरान (IQNA) लोकतांत्रिक देश के रूप में भारत का राजनीतिक जीवन, इसकी विविध आबादी के बावजूद, आधुनिक राजनीतिक इतिहास की सबसे चमत्कारी घटनाओं में से एक है। राजनीति विज्ञान के विशेषज्ञों ने इस देश को दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र के पालने के रूप में देखते हैं। हालाँकि, नया नागरिकता विधेयक 72 राष्ट्रों पर आधारित देश में लोकतंत्र के लिए एक बड़ी चुनौती है।
संविधान, विरोध का साधन
नए कानून के प्रति नागरिकों का प्रतिरोध, असंतोष व्यक्त करने में मुख्य अवयव के रूप में संविधान का उपयोग किया जाता है इन विरोध प्रदर्शनों में राष्ट्रीय ध्वज और राष्ट्रगान जैसे संवैधानिक देशभक्ति के प्रतीकों का उपयोग होरहा है। इन कार्वाइयों से यह दिखाने का प्रयास है कि नागरिकता अधिनियम और राष्ट्रीय नागरिक पंजीकरण योजना (NRC) भारत की पहचान के लिए खतरा है। इसलिए, संविधान, जिसे संप्रभुता के लिए एक ढांचा माना जाता था, अब एक अलग दृष्टिकोण के साथ विरोध करने वाले लोगों के लिए एक उपकरण बन गया है।
विरोधियों की बौद्धिक विविधता
यह विरोध प्रदर्शन पूर्वोत्तर भारत, विशेष रूप से असम में शुरू हुआ।
भारत में पूर्वोत्तर और मुस्लिम समुदाय के प्रदर्शनकारियों के लिए, यह अस्तित्व के लिए संघर्ष है, लेकिन इस देश के शिक्षाविदों और सभ्य समाज के विरोध अधिकतम वैचारिक पहलू रखते हैं।
गरीबों के अधिकारों का हनन
नया भारतीय नागरिकता कानून तीन पड़ोसी देशों के प्रवासियों को इस शर्त पर नागरिकता देने पर आधारित है कि वे मुस्लिम न हों; इस कारण से, मुस्लिम नागरिक इसे आव्रजन पर एक कानून से अधिक मानते हैं और मानते हैं कि इसका मुख्य उद्देश्य उन्हें नागरिकता की दूसरे दर्जे की डिग्री प्रदान करना है। इसी बात ने पूरे भारत में कानून के खिलाफ मुसलमानों के प्रदर्शनों को जन्म दिया। हालाँकि, कई हिंदू, सिख और ईसाई भी कानून का विरोध कर रहे हैं।
कट्टरता और सहिष्णुता के बीच युद्ध
प्रदर्शनकारियों के खिलाफ चरमपंथी हिंदू हिंसा, पिछले हफ्ते तेज हो गई, जब सत्तारूढ़ पार्टी के एक स्थानीय राजनेता कपिल मिश्रा ने घोषणा की कि यदि नागरिकता कानून के खिलाफ पुलिस विरोध प्रदर्शन को समाप्त नहीं कर सकती तो वह और उनके समर्थक स्वयं कार्वाई करेंगे। मिश्रा के अल्टीमेटम के कुछ घंटों बाद ही, उनके समर्थकों ने प्रदर्शनकारियों पर हमला कर दिया। कुछ ही दिनों के दौरान, उन्होंने मुस्लिम घरों, दुकानों और मस्जिदों में आग लगा दी। इस संघर्ष में अब तक 47 लोग मारे गए हैं, जिनमें से अधिकांश मुस्लिम हैं।
3882645
न्यू सिटिजनशिप लॉ; भारत में लोकतंत्र की महान चुनौती
 
न्यू सिटिजनशिप लॉ; भारत में लोकतंत्र की महान चुनौती
 
न्यू सिटिजनशिप लॉ; भारत में लोकतंत्र की महान चुनौती
नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :
* captcha: