IQNA

15:38 - July 01, 2020
समाचार आईडी: 3474904
तेहरान (IQNA) उइगुर मुस्लिम अल्पसंख्यक के जबरन गर्भपात पर चीनी सरकार द्वारा एक रिपोर्ट के प्रकाशन के बाद, नेताओं और मानवाधिकार संगठनों के एक समूह ने संयुक्त राष्ट्र द्वारा अधिक जांच की मांग की।

जापान टाइम्स के अनुसार, दुनिया भर के राजनेताओं ने पश्चिमी चीन के झिंजियांग क्षेत्र में चीनी सरकार द्वारा उइगर अल्पसंख्यक के जन्म व जबरन गर्भपात पर संयुक्त राष्ट्र द्वारा अधिक जांच की मांग की है। बीजिंग सभी जातीय समूहों के साथ समान और कानूनी व्यवहार करने का दावा करता है।
 
पिछले हफ्ते, एसोसिएटेड प्रेस ने बताया कि चीनी सरकार उइगरों और अन्य अल्पसंख्यकों के बीच जन्म दर को कम करने के लिए अत्याचार कर रही है, जबकि हान जो देश की आबादी का बहुमत हैं, को अधिक बच्चे पैदा करने को प्रोत्साहित करते हैं।
 
चीन पर अंतर-संसदीय गठबंधन (The Inter-Parliamentary Alliance on China), जिसमें विभिन्न प्रकार की राजनीतिक पृष्ठभूमि के यूरोपीय, ऑस्ट्रेलियाई, उत्तरी अमेरिकी और जापानी राजनेताओं का एक समूह शामिल है, ने संयुक्त राष्ट्र के स्वतंत्र शोध का आह्वान किया है।
 
समूह ने एक बयान में कहा, "दुनिया इन बर्बर कृत्यों के सामने चुप नहीं रह सकती।"
 
इसी तरह ब्रिटिश हाउस ऑफ कॉमन्स में दो मुख्य दलों के प्रतिनिधियों ने देश के विदेश विभाग से उइगरों के खिलाफ मानवाधिकारों के हनन पर चीन सरकार के खिलाफ सख्त रुख अपनाने की मांग की।
 
एसोसिएटेड प्रेस के अनुसार, साक्षात्कार और डेटा बताते हैं कि झिंजियांग के अधिकारी नियमित रूप से अल्पसंख्यक महिलाओं को गर्भावस्था के परीक्षणों के लिए बुलाते हैं, सैकड़ों हजारों को अंतर्गर्भाशयी उपकरणों का उपयोग कर के, नसबंदी और यहां तक ​​कि गर्भपात के लिए मजबूर करते हैं। जबकि चीन में आईयूडी और नसबंदी का उपयोग कम हो रहा है, जब कि शिनजियांग में तेज़ी से बढ़ रहा है। जनसंख्या को नियंत्रित करने के उपाय, व्यापक रूप से गिरफ्तारी के साथ है क्योंकि, दोनों धमकी और गैर-अनुपालन के लिऐ सजा के रूप में शुमार होता है।
 3907981

 
नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :
* captcha: