IQNA

16:13 - August 23, 2020
समाचार आईडी: 3475077
तेहरान (IQNA)विभिन्न कारणों से, बाइबिल में जो लोगों के पास है मूल भाषा के वाक्यांशों की गलत व्याख्या और लोगों की गलतफहमी के आधार पर बुनियादी बदलाव और उथल पुथल हुआ है, जैसे कि ज़कात शब्द, जिसे प्यार का अर्थ बताया गया है।

फ़ित्रुस मीडिया (इस्लामिक डॉक्यूमेंट्री सिनेमा सेंटर) के हवाले से,बाइबल की मुख्य भाषा "अरामी" है, जो अरबी और हिब्रू भाषाओं का मूल भी मानी जाती है।
 
विभिन्न कारणों से, जो बाइबिल उपलब्ध है, उसमें मूल भाषा के वाक्यांशों के अनुवाद और गलत व्याख्या के आधार पर मूलभूत परिवर्तन और बदलाव हुए हैं। जैसे "अल्लाह" शब्द जिसे आज शास्त्रों में "God" कहा जाता है, शब्द "ज़कात" जिसे "प्रेम" और "प्रार्थना" के रूप में व्याख्या किया जाता है, जो चर्च में रविवार की उपस्थिति से लिया गया है।
 
मैथ्यू की बाइबल अहदे जदीद में स्वीकृत चार बाइबलों में से एक है; बाइबिल ईसाई है।इसमें आया है "मैं आपको पश्चाताप के पानी में बपतिस्मा देता हूंलेकिन वह जो मेरे पीछे आता है वह मुझसे अधिक शक्तिशाली है" जिसके जूते उठाने के लायक़ मैं नहीं हूं। वह आपको रूहुल क़ुद्स और आग से बपतिस्मा देगा।"
 
बाइबल के अनुवादकों ने इस वाक्यांश में "अधिक सक्षम" या "अधिक योग्य" शब्द का अर्थ किया है, लेकिन अगर इन पत्रों की मूल भाषा में जांच की जाऐ, तो हम "ह स य न" अक्षर पर आते हैं और हज़रत यह्या का इशारा उस व्यक्ति के नाम की ओर है जो भविष्य में आएगा और सम्मान की स्थिति में, उसने खुद को उनके जूते उठाने के लायक़ भी नहीं समझा और वह व्यक्ति इमाम हुसैन (अ.स.) है।
 
यह भी कहा जाता है कि मैथ्यू के बाइबल सूरह 21 आयत 9 में एक शब्द है जो अस्पष्ट और अज्ञात है। जब अंतिम समय के चमत्कारों और सर्वनाश की घटनाओं की बात आती है और बादलों और आग के बीच में भगवान के संरक्षक की उपस्थिति की कहानी तक पंहुचते हैं, तो उसे अस्पष्ट शब्दों के साथ संदर्भित किया जाता है, जो मालूम नहीं कि उसका नाम है या आदर्श वाक्य जिसके साथ लोग उसकी पहचान करते हैं।
 
इस आयत में कहा गया है कि उस समय लोग घुटने टेक देंगे और उसे उच्च वर्गों में देखते हैं। इस शब्द का अनुवाद कुछ ने होसाना या ओसाना, कुछ होशियाना और कुछ "हुसैना" से किया है।
3918346
नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :
* captcha: