IQNA

15:27 - August 31, 2020
समाचार आईडी: 3475100
तेहरान (IQNA) पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने यूरोप में इस्लामोफोबिया की नई लहर की चेतावनी दी और हाल के दिनों में स्वीडन और नॉर्वे में कुछ चरमपंथी तत्वों द्वारा मुस्लिमों की आस्मानी पुस्तक के साथ अपमानजनक कार्यों की कड़ी निंदा की।

डेली टाइम्स के हवाले से, ज़ाहिद हफ़ीज चौधरी ने सोमवार (31 अगस्त) को एक बयान जारी करके यूरोप में इस्लामोफोबिया के बढ़ने के जवाब में, माल्मो, स्वीडन और ओस्लो, नॉर्वे में इस्लामी विरोधी तत्वों द्वारा पवित्र कुरान को जलाने की कड़ी निंदा की गई।
 
उन्होंने कहा: इस्लामोफोबिया के उद्भव से उत्पन्न ऐसे कार्य किसी भी धर्म की भावना के विपरीत हैं और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को धर्म के नाम पर अपमान और घृणा द्वारा कभी भी उचित नहीं ठहराया जा सकता है।
 
पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने जोर देकर कहा कि दूसरों की धार्मिक मान्यताओं के लिए सम्मान सुनिश्चित करना एक सामूहिक जिम्मेदारी है और विश्व शांति और समृद्धि के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।
 
पाकिस्तानी समाचार स्रोतों ने आज बताया कि यूरोप में इस्लामोफोबिया की नई लहर फिर से शुरू हो गई है और कुछ चरमपंथियों ने नॉर्वे की राजधानी में इस्लाम और मुसलमानों के खिलाफ मार्च किया है। इस सभा के दौरान, एक व्यक्ति ने पवित्र कुरान के पन्नों को फाड़ दिया।
 
इसी तरह स्वीडन में पिछले शुक्रवार को, दक्षिणपंथी- उग्रवादी समूहों ने पवित्र कुरान की ऐक जिल्द में आग लगाने का जघन्य अपराध किया। इससे पहले दिसंबर में, पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय ने नार्वे के राजदूत को तलब किया और मुसलमानों के पवित्र ग्रंथ कुरान को इस देश की ऐक गैर-मुस्लिम संगठन द्वारा अपमानजनक कृत्य की कड़ी निंदा की थी।
3920088
नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :
* captcha: