IQNA

वसंत की आयतें; 13
16:09 - April 03, 2021
समाचार आईडी: 3475757
तेहरान(IQNA)सूरऐ अल-मुबारक अल-रोम की आयत 24 को राग़ेब मुस्तफा ग़ुलूश, मिस्र के प्रसिद्ध क़ारी की आवाज़ में धरती के नवीनीकरण के दिनों में सुनेंगें।

وَمِنْ آيَاتِهِ يُرِيكُمُ الْبَرْقَ خَوْفًا وَطَمَعًا وَيُنَزِّلُ مِنَ السَّمَاءِ مَاءً فَيُحْيِي بِهِ الْأَرْضَ بَعْدَ مَوْتِهَا إِنَّ فِي ذَلِكَ لَآيَاتٍ لِقَوْمٍ يَعْقِلُونَ ﴿۲۴﴾
और उसकी निशानियों में से एक यह है कि वह आपको भय और आशा के साथ बिजली दिखाता है, और आकाश से पानी नीचे भेजता है, और इसके साथ ही पृथ्वी को उसके मुर्दा होने के बाद फिर से जीवित करता है; निश्चित रूप से यह बुद्धिमानों के लिए एक सबक़ है
سوره روم
3960188

 
 
नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :
* captcha: