IQNA

17:11 - May 10, 2021
समाचार आईडी: 3475877
तेहरान (IQNA) अल-बैअह मस्जिद सऊदी अरब के पवित्र मक़ामात के पास एक बग़ैर छत की मस्जिद है, जो इस्लाम के शुरुआती दिनों में पहली निष्ठा की याद दिलाती है।

इकना ने अरबी सी एन एन के अनुसार बताया कि ;, हज के मौसम के दौरान जमरात क्षेत्र को पार करने वाले तीर्थयात्रियों को महान जमरा से 500 मीटर की दूरी पर अल-बैअह मस्जिद के सामने से ग़ुज़रते हैं, जो महान ऐतिहासिक महत्व का है।
 यह मस्जिद मीना के उत्तरी भाग के पास स्थित है, जो माउंट सबीर के दक्षिणी ढलान पर है, जो अंसार घाटी या बैअत घाटी के नाम से जानी जाने वाली घाटी की ओर है।
 इस मस्जिद के निर्माण की तारीख 144 हि. है। अबू जाफर अल-मंसूर, उस समय के अब्बासिद खलीफा ने मस्जिद का निर्माण उस महान निष्ठा की स्मृति को बनाए रखने के लिए किया, जो वहां हुई थी।
 यह मस्जिद अभी भी अपनी पुरानी स्थिति और ऐतिहासिक शिलालेखों को बरकरार रखती है, और एक शिलालेख है जिस पर मस्जिद के निर्माण की तारीख लिखी गई है।
अल-बैअह मस्जिद एक छतविहीन मस्जिद जिसमें मेहराब भी शामिल है, और मस्जिद के अंदर एक बड़ा आग़न है। मस्जिद पहाड़ के पीछे स्थित है लोग़ो की नज़र से छिपी हुई है, लेकिन जमरात क्षेत्र के नए विकास और मशर अल-हराम विकास परियोजना के दौरान पहाड़ की सफाई के बाद तीर्थयात्रियों और बसों के लिए एक नया मार्ग बनाने के लिए प्रकट किया गया है जाते समय देख़ाई देता है।
 यह भी कहना है; कि पैगंबर के मिशन (621 ईस्वी) के बारहवें वर्ष में, इस मस्जिद के स्थान पर अकाबा नामी बैअत हुई थी जिसमें मदीना के औस और खज़रज के 12 सदस्यों ने बैअत किया और (622 ईस्वी) अक़बा ने इस जगह पर बैअत किया।
 अकबा की दूसरी बैअत जिसे महान अकाबा की बैअत के रूप में भी जाना जाता है, 73 पुरुष और मदीना की दो महिलाएं उपस्थित थीं। इसलिए, अबू जाफर अल-मंसूर ने 144 हि. (761 ईस्वी) में इस जगह पर एक मस्जिद का निर्माण किया और इस मस्जिद के निर्माण की तारीख को एक पट्टिका पर दर्ज किया जो अभी भी मस्जिद की बाहरी दीवार पर है।
3970611
مسجدی بدون سقف در عربستان؛ یادآور نخستین بیعت در صدر اسلام +عکس
 
مسجدی بدون سقف در عربستان؛ یادآور نخستین بیعت در صدر اسلام +عکس
 
مسجدی بدون سقف در عربستان؛ یادآور نخستین بیعت در صدر اسلام +عکس
 
مسجدی بدون سقف در عربستان؛ یادآور نخستین بیعت در صدر اسلام +عکس
 
مسجدی بدون سقف در عربستان؛ یادآور نخستین بیعت در صدر اسلام +عکس
नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :
* captcha: