IQNA

16:22 - May 17, 2021
समाचार आईडी: 3475903
तेहरान(IQNA) मिस्र अल-अजहर के तीन विद्वानों ने एक भाषण में, पवित्र क़ुद्स और मक़्बूज़ह फिलिस्तीन में ज़ायोनी शासन के अपराधों की निंदा की और इस्लामी देशों के शासकों के एकीकरण का आह्वान किया।

बव्वाबा फिटो के हवाले से, मिस्र के पूर्व मुफ्ती, "अली जुमा" ने कहा: मक़्बूज़ह क़ुद्स और फिलिस्तीन में ज़ायोनी शासन के अपराधों की निंदा करके, वास्तविक मुद्दा जो कि ग़ासिब इजरायल द्वारा फिलिस्तीन और क़ुद्स पर कब्ज़ा है और ज़ायोनी बस्तियों के निर्माण से अल-अक्सा मस्जिद को नष्ट करना है भूल नहीं जाना चाहिए।
 
उन्होंने जोर देकर कहा: "इस्लाम, ईसाई और यहूदी धर्मों में कुद्स का एक विशेष स्थान है, इसलिए मुसलमानों को इस संबंध में एक-दूसरे के साथ मौखिक संघर्ष नहीं करना चाहिए, क्योंकि ग़ासिब दुश्मन इज़राइल, मुसलमानों के बीच कलह पैदा करने की कोशिश कर रहा है ताकि वे वास्तविक मुद्दे को भूला दें।
इस्माइल हनीयेह की शेख़ अल-अज़हर के साथ टेलीफोनी बात चीत
 
इस संबंध में, हमास के राजनीतिक ब्यूरो के प्रमुख "इस्माइल हनीयेह," ने शेख़ अहमद अल-तैय्यब के साथ टेलीफोन पर बातचीत में, उन्हें फिलिस्तीन में नवीनतम घटनाओं और गाजा पर ज़ायोनी शासन के हमलों की जानकारी दी, और इस बात पर जोर दिया कि फिलिस्तीनी लोग मुक़ावेमत और अल-अक्सा मस्जिद और अन्य फिलिस्तीनी तीर्थस्थल का बचाव करना जारी रखेंगे।
 
फिलिस्तीनी राष्ट्र और गाजा के लोगों के समर्थन और ज़ायोनी शासन के अपराधों की निंदा करने में अल-अज़हर की स्थिति की प्रशंसा करते हुए, हनीयेह ने कहा: "ज़ायोनी दुश्मन ने कुद्स के खिलाफ आक्रामकता के साथ एक बड़ी गलती की, क्योंकि हमारी चेतावनी जिसे हमने हमेशा कहा था कि फिलीस्तीनी लोग अपनी सर्वश्रेष्ठ ताक़त के साथ अल-अक्सा मस्जिद का बचाव करेंगे, अच्छी तरह से समझ में नहीं आया।
 
इससे पहले, शेख़ अल-अज़हर अल-तय्यब ने फ़ारसी सहित 15 जीवित भाषाओं में ट्वीट किया, अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से फ़िलिस्तीन के उत्पीड़ित लोगों का समर्थन करने और इस देश पर डबल दर्जे की नीति को समाप्त करने का आह्वान किया।
दूसरी ओर, अल-अज़हर उलेमा परिषद के सदस्य शेख़ "अहमद उमर हाशेम" ने अरब देशों के शासकों को एक पत्र लिखकर कुद्स की मुक्ति और एक इस्लामी निवारक शक्ति के गठन के लिए एकजुट होने का आह्वान किया।
3971982

नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :
* captcha: