IQNA

14:22 - November 28, 2021
समाचार आईडी: 3476739
तेहरान(IQNA)संयुक्त राज्य अमेरिका सहित कई देशों ने अफ्रीकी देशों पर यात्रा प्रतिबंध लगा दिए हैं। वैक्सीन कंपनियां सक्रिय हैं
संयुक्त राज्य अमेरिका, कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, इटली, नीदरलैंड, ऑस्ट्रिया और यूनाइटेड किंगडम सहित यूरोपीय संघ ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा दक्षिण अफ्रीकी कोरोना के नए प्रकार 'ओमी क्रून' चिंता का विषय बताने के बाद अफ्रीकी देशों पर यात्रा प्रतिबंध लगा दिया है।
यूनाइटेड किंगडम ने दक्षिण अफ्रीका, लेसोथो, बोत्सवाना, नामीबिया, स्वातिनी और ज़िम्बाब्वे को कोरोना प्रतिबंधों की लाल सूची में जोड़ा और उन देशों से उड़ानों पर प्रतिबंध लगा दिया। संयुक्त राज्य अमेरिका ने दक्षिण अफ्रीका सहित आठ अफ्रीकी देशों पर यात्रा प्रतिबंध भी लगाया। कोरोना का यह नया प्रकार दक्षिण अफ्रीका के एक प्रांत में इस वायरस की खोज की गई है, विशेषज्ञों का कहना है कि मूल कोरोना वायरस की तुलना में इसमें इतने बदलाव हुए हैं कि कोरोनावायरस के लिऐ बनाई गऐ अब तक के टीके की प्रभावशीलता 40% तक को कम कर सकते हैं
विशेषज्ञों का कहना है कि वह नए संस्करण को देखकर हैरान होगऐ क्योंकि उन्होंने पहले कभी कोरोना का इतना खतरनाक रूप नहीं देखा था। दूसरी ओर, दक्षिण अफ्रीका ने विभिन्न देशों द्वारा यात्रा प्रतिबंधों की घोषणा का कड़ा विरोध किया, प्रतिबंधों को कठोर, अवैज्ञानिक और डब्ल्यूएचओ के दिशानिर्देशों के खिलाफ बताया।
वैक्सीन कंपनियों ने एक नए प्रकार का कोरोनावायरस के नऐ प्रकार Omicron के ख़िलाफ़ प्रतिरोध को संभव बनाने के लिए लामबंद किया गया है। बायोएनटेक ने 100 दिनों के भीतर अपने कोरोना वैक्सीन का नवीनतम संस्करण विकसित करने का दावा किया है। फाइजर का कहना है कि ओमेक्रॉन संस्करण के खिलाफ उनके टीके की प्रभावशीलता दो सप्ताह में जानी जाएगी, जॉनसन एंड जॉनसन ने कहा कि वे ओमेक्रॉन संस्करण के खिलाफ अपने टीके की प्रभावशीलता की समीक्षा कर रहे हैं।
यूके की एस्ट्राजेनेका ने भी नए स्ट्रेन के खिलाफ वैक्सीन की प्रभावशीलता को देखने के लिए शोध शुरू कर दिया है। माना जा रहा है कि दक्षिण अफ्रीका के एक प्रांत में कोरोना वायरस के इस नए स्ट्रेन की खोज की गई है, जिसके संबंध में विशेषज्ञों का कहना है कि मूल कोरोना वायरस की तुलना में इसमें इतने बदलाव आए हैं कि कोरोनावायरस के लिऐ बनाई गऐ अब तक के टीके की प्रभावशीलता 40% तक को कम हो सकते हैं
विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना वायरस के इस नए संस्करण के लक्षण काफी हद तक पहले वाले जैसे ही हैं, जैसे बुखार, खांसी, थकान, स्वाद में कमी, सूंघने की क्षमता में कमी और सांस लेने में अधिक तकलीफ़ आदि। जानकारों का कहना है कि इस वेरिएंट के लक्षण दूसरे वेरिएंट से ज्यादा गंभीर हो सकते हैं.विदेशी मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक वैज्ञानिकों और मेडिकल एक्सपर्ट्स ने चेतावनी दी है कि कोरोना का नया वेरिएंट तेजी से फैलता है और वैक्सीन से भी ज्यादा ताकतवर है.
स्रोतःसियासत समाचार साईट

 
 
नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :
* captcha: