IQNA

14:43 - December 08, 2021
समाचार आईडी: 3476789
तेहरान(IQNA)मिस्र में तंता विश्वविद्यालय के अध्यक्ष ने कल, सोमवार, 7 दिसंबर को सबसे लंबी मुस्हफ़ पांडुलिपि के लेखक साद हशीश का स्वागत करते हुऐ उनकी सराहना की।
अल-बयान के अनुसार, दुनिया के सबसे लंबे मुस्हफ़ के लेखक साद हशीश ने कल मिस्र में तांता विश्वविद्यालय के अध्यक्ष महमूद जकी से मुलाकात की।
 
हशीश ने इस मुलाक़ात में इस ओर इशारा करते हुऐ कि वह मिस्र के पश्चिमी प्रांत के एक गांव में पैदा हुऐ हैं कहा, "मैं अनपढ़ था, लेकिन मुझे खुद को पढ़ना और लिखना सीखने पर गर्व है।
 
 हशीश ने जोर दिया: मुझे अपनी खुद की लिखावट से एक बड़ा मुस्हफ़ लिखने में 3 साल लग गए, जो 1100 मीटर लंबा है, और अब मेरी इच्छा है कि यह मुस्हफ़  गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में दर्ज हो।
 
उन्होंने जारी रखा: पिछला रिकॉर्ड दुनिया में सबसे बड़े मुद्रित कुरान से संबंधित है, जिसका वजन 552 किलोग्राम है, लेकिन अभी तक दुनिया की सबसे बड़ी मुस्हफ़ आधिकारिक तौर पर पंजीकृत नहीं हुई है।
 
साद हशीश ने समझाया कि यह मुस्हफ़ अपनी तरह का अनोखा नहीं है क्योंकि अतीत में 700 मीटर लंबी मुस्हफ़ लिखी गई थी, जो मेरी पांडुलिपि से पहले दुनिया की सबसे लंबी और सबसे बड़ी पांडुलिपि थी।
 
कुरान के इस लेखक ने तांता विश्वविद्यालय के अध्यक्ष को गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में एक नए मुस्हफ़ को दर्ज करने के उपायों पर विचार करने के लिए कहा, क्योंकि दुनिया में सबसे बड़ी पांडुलिपि मुस्हफ़ अभी तक पंजीकृत नहीं हुई है।
4019089
 
नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :
* captcha: