IQNA

सऊदी अरब में जापान के राजदूत की कुरआन से रुचि के कारण

5:07 - December 28, 2021
समाचार आईडी: 3476867
तेहरान (IQNA)सऊदी अरब में जापान के राजदूत फुमियो इवई ने इस्लाम नहीं लाने के बावजूद भी पवित्र कुरान में उनकी रुचि के कारण अपनी अरबी भाषा को मजबूत करने का हवाला दिया।
एकना ने स्पुतनिक अरबी के हवाले से बताया कि, जापानी राजदूत ने रविवार, 26 दिसम्बर को अपने आधिकारिक पेज पर एक ट्वीट पोस्ट करके अरबी भाषा में अपने कौशल को मजबूत करने के लिए पवित्र कुरान, विशेष रूप से सूरह अल-फातिहा को सुनने की शुरुआत की घोषणा किया।
यह जापानी राजनयिक सउदी से जुड़ने के लिए ट्विटर पर बहुत अधिक निर्भर हैं। लाखों सऊदी अरब के लोग उन्हें ट्विटर पर फॉलो कर रहे हैं। सऊदी अरब में उनकी दैनिक जीवन की तस्वीरें और वीडियो उनके दर्शकों द्वारा खूब पसंद किए गए हैं।
जापान के राजदूत कई अलग-अलग कार्यक्रमों और सार्वजनिक समारोहों में भी शामिल भी होते हैं।
 इवई ने करीब तीन दशक पहले मिस्र में अरबी सीखी थी। उन्हें इस साल की शुरुआत में सऊदी अरब में राजदूत नियुक्त किया गया था और इससे पहले उन्होंने 10 वर्षों तक रियाद में उप राजदूत के रूप में कार्य किया है।
علت علاقه سفیر ژاپن در عربستان به قرآن کریم
वह पहले इराक में अपने देश के राजदूत थे, और लोगों के साथ अपने व्यापक संपर्कों और स्थानीय बोलियों को सीखने के उनके प्रयासों के लिए जाने जाते थे।
उस समय फूमियो इवई ने अरबी में एक लेख में सूरह अल-राद की आयत 11 का जिक्र करते हुए कहा: "अल्लाह कीसी क़ौम को नही बलता है जब तक कि ख़ुद अपने को न बदले" उन्होंने लिखा: इस आयत में, राष्ट्रों की प्रगति और समृद्धि की नीति को समझाया गया है
4023791
नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :
captcha