IQNA

इकना के साथ एक इंटरव्यू:

पाकिस्तान ने ईरान की कुरानिक तहक़ीक़ का स्वागत किया/ ईरान ने लाहौर इस्लामी प्रदर्शनी की शुरुआत की + फिल्म

14:58 - November 28, 2022
समाचार आईडी: 3478163
तेहरान (IQNA):लाहौर में ईरानी कल्चर हाउस के प्रमुख जाफर रोनास ने कहा कि ईरानी कला और संस्कृति पाकिस्तान में जानी पहचानी है। हम कुरान की तहकीकात के क्षेत्र में शीर्ष देशों में से एक हैं और हम पाकिस्तानियों के साथ अपने अनुभव साझा कर सकते हैं और वे इस मुद्दे का स्वागत करेंगे।

लाहौर में ईरानी कल्चर हाउस के प्रमुख जाफर रोनास ने कहा कि ईरानी कला और संस्कृति पाकिस्तान में जानी पहचानी है। हम कुरान की तहकीकात के क्षेत्र में शीर्ष देशों में से एक हैं और हम पाकिस्तानियों के साथ अपने अनुभव साझा कर सकते हैं और वे इस मुद्दे का स्वागत करेंगे। 

लाहौर, पाकिस्तान में अल-हमरा कला केंद्र ने हाल ही में विश्व इस्लामी कला दिवस के अवसर पर एक इस्लामी कला प्रदर्शनी की मेजबानी की और यह प्रदर्शनी गुरुवार, 17 नवंबर को शुरू हुई और रविवार, 20 नवंबर तक जारी रही।

इस कार्यक्रम में इस्लामिक कला के विभिन्न पहलुओं को दिखाया गया, जिसमें इस्लामी ख़त्ताती, कुरान के क़लमी नुस्खे और सूफी संगीत शामिल हैं, और लाहौर में ईरानी संस्कृति हाउस, प्रदर्शनी में भाग लेने वालों में से एक था।

लाहौर प्रदर्शनी में पाकिस्तानी, तुर्की और ईरानी कलाकारों की कृतियों को जनता के सामने रखा गया। और सेमिनारों, प्रदर्शनियों, शैक्षिक कार्यशालाओं, कव्वाली कार्यक्रमों, पुस्तक स्टालों और अन्य गतिविधियों के माध्यम से इस्लामी कला और विज्ञान के 1400 साल के इतिहास का पता लगाया गया।

इस प्रदर्शनी में ईरान की गतिविधियों के बारे में अधिक जानने के लिए, हमने लाहौर में ईरान के सांस्कृति से जुड़े और कल्चर हाउस के प्रमुख जाफ़र रोनास से बात की। हमें प्रदर्शनी कार्यक्रमों और पाकिस्तानी संगठनों और संस्थानों के साथ इस केंद्र की संयुक्त गतिविधियों के बारे में बताने के लिए

 

‌इकना - पहले हमें लाहौर में इस्लामिक कला की प्रदर्शनी के बारे में बताएं और इस आयोजन में ईरान ने कैसे भाग लिया।

2019 में यूनेस्को की 40 वीं आम सभा में, इस्लामी कलाओं की अहमियत, विविधता और क्षेत्र और दुनिया में इस्लामी कला के प्राचीन इतिहास के कारण, 18 नवंबर को इस्लामिक कला के विश्व (अंतर्राष्ट्रीय) दिवस के रूप में नामित किया गया। ताकि नई पीढ़ी को अपनी विरासत और पिछले और मौजूदा लोगों की कलाओं के बारे में अधिक पता चल सके।

पिछले साल, मैंने लाहौर में ईरान के हाउस ऑफ कल्चर का कार्यभार संभालने के बाद पहली बार इस्लामी कलाओं की प्रदर्शनी के रूप में इस दिन को आयोजित करने का फैसला किया। लेकिन इस शीर्षक के अंतर्राष्ट्रीय होने के कारण हमने लाहौर की सांस्कृतिक संस्थाओं से इस प्रदर्शनी को संयुक्त रूप से आयोजित करने का अनुरोध किया। इस बात को ध्यान में रखते हुए कि केवल दो देशों, ईरान और तुर्की का लाहौर में एक आधिकारिक सांस्कृतिक विभाग और कार्यालय है, पिछले साल हमने तुर्की के "यूनुस आमरे" फाउंडेशन और पाकिस्तान कैलीग्राफर्स एसोसिएशन के सहयोग से इस कार्यक्रम का आयोजन किया था, और इसका अच्छा स्वागत हुआ।

पिछले साल अच्छे स्वागत के कारण, इस साल हमने इस प्रदर्शनी को बहुत बड़े पैमाने पर आयोजित किया, और यह आयोजन 17 नवंबर से 20 नवंबर तक चार दिनों के लिए ईरान, तुर्की और पाकिस्तान के सहयोग से आयोजित किया गया।

इस साल की प्रदर्शनी का बहुत अच्छी तरह से लोगों ने स्वागत किया। पंजाब राज्य के मंत्री के डिप्टी और सलाहकार समेत कई प्रसिद्ध व्यक्तित्व, कई मंत्री और कई सांस्कृतिक व्यक्तित्व प्रदर्शनी प्रारंभिक करने और देखने के लिए आए थे।

 

‌इकना - इस प्रदर्शनी के कार्यक्रमों को कैसे अंजाम दिया गया और ईरान की नुमाइंदगी ने कार्यक्रम को कैसे अंजाम दिया?

इस प्रदर्शनी में इस्लामी कला से संबंधित विषयों पर प्रतिदिन 5 लेखों के साथ 4 दिनों में 20 लेख प्रस्तुत किए गए। और हमने खत्ताती प्रतियोगिताओं का आयोजन किया और इस्लामी कला में दिलचस्पी रखने वाले 200 से अधिक लोगों ने कार्यशालाओं में भाग लिया और प्रमाणपत्र प्राप्त किए। और कुरान की पुरानी और हस्तलिखित प्रतियां प्रदर्शनी में प्रस्तुत की गईं और हमने ख़त्ताती के क्षेत्र में 36 कार्यों का प्रदर्शन किया, विभिन्न क्षेत्रों से ईरान के इस्लामी गणराज्य के दस्तकारी काम प्रदर्शित किए गए।

 

‌इकना - प्रदर्शनी में पेश की गई क़ुरआन के नुस्खों के बारे में बताइए और इन क़ुरान को ज़्यादातर किन देशों ने पेश किया?

जैसा कि आप जानते हैं, कुरान के नुस्खों को ईरान से पाकिस्तान या पाकिस्तान से ईरान लाना ले जाना एक कठिन काम है और इसके लिए विशेष शर्तों और विशेष परमिट की आवश्यकता होती है, क्योंकि क़लमी नुस्खे किसी भी देश के -सांस्कृतिक कार्यों का हिस्सा होती हैं।

इस तरह के मुद्दों पर विचार करते हुए, हमने कूफ़ी लिखाई में अमीर अल-मोमिनीन (अ.स.) से मनसूब कुरान का एक नुस्खा प्रदर्शित किया, जिसे विभिन्न समूहों ने सराहा और स्वागत किया। और लाहौर के धार्मिक और वैज्ञानिक विद्यालयों और मदरसों ने हमसे इस कुरान और लाहौर में ईरान के कल्चर हाउस के अन्य कार्यों को इन विद्यालयों के अंदर एक दिवसीय प्रदर्शनियों में प्रदर्शित करने का अनुरोध किया ताकि दिलचस्पी रखने वाले उस से अधिक परिचित हो सकें।

 


 

https://iqna.ir/fa/news/4102540

 

नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :
captcha