IQNA

पाकिस्तानी विद्वान:
17:09 - February 13, 2017
समाचार आईडी: 3471191
इंटरनेशनल ग्रुप: अल्लामा मोहम्मद तकी उस्मानी, एक पाकिस्तानी मुस्लिम विद्वान ने कहा: पैगंबर के अपमान का आरोप साबित होना चाहिऐ और एक व्यक्ति जो झूठा आरोप लगा रहा है उसको दोषी दर्ज किया जाना चाहिए।

पैगंबर का अपमान करने का आरोप लगाना एक अपराध है।

अंतरराष्ट्रीय कुरान समाचार एजेंसी (IQNA) रावलपिंडी "जंग"अखबार द्वारा उद्धृत, तकी उस्मानी, एक प्रमुख सुन्नी विद्वान और पाकिस्तान के मुफ्ती ने, 'जियो न्यूज' नेटवर्क के कार्यक्रम में कहाः पैगंबर (PBUH) के अपमान का झूठा आरोप दर्ज कराना उतना ही घोर अपराध है जितना स्वयं अपमान अपराध है।

इस कार्यक्रम में विभिन्न धर्मों के विद्वानों ने कहाः कि पैगंबर का अपमान करने का मुद्दा अलग-अलग धर्मों में अत्यधिक संवेदनशील है। इसलिए, एक व्यक्ति जो आरोप लगा रहा है, उसको साबित करे।

विद्वानों ने बल दिया: झूठा आरोप, उतना ही घोर अपराध है जितना स्वयं अपमान अपराध है,व्यक्तियों अपने उद्देश्यों के लिए किसी पर झूठा आरोप नहीं लगाना चाहिए।

तकी उस्मानी ने बतायाःइसी कारण पाकिस्तानी इस्लामी विचारों की परिषद ने सिफारिश की है कि ऐक क़ानून बनाया जाऐ यदि आरोप लगाने वाला आरोप साबित न कर सके तो उसके लिए भारी दंड लगाया जाऐ।

3573833

नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :
* captcha: