IQNA

16:37 - September 05, 2017
समाचार आईडी: 3471783
अंतरराष्ट्रीय समूह: रोहिंगी मुस्लिम बच्चे बांग्लादेश के शहर ओकिया में कोतूपालोंग शरणार्थी शिविर में कुरान कक्षा में जो शिविरों के निवासियों द्वारा आयोजित किऐ गऐ हैं भाग लेरहे हैं।
शिविरों में रोहिंग्याई बच्चों के लिए कुरान की शिक्षाशिविरों में रोहिंग्याई बच्चों के लिए कुरान की शिक्षा

अंतर्राष्ट्रीय कुरान समाचार एजेंसी (इक़ना) के अनुसार, बांग्लादेश का ओकाया शहर मुख्य रूप से रोहंगियाई मुसलमानों का टिकने का स्थलबन गया है जो, म्यांमार के आतंकवादी और उग्रवादी बौद्धों व सरकार की हिंसा और दमन के कारण अपने देश से भागने को मजबूर हो गऐ हैं।

कोप्पलॉंग शरणार्थी शिविर इस क्षेत्र में बांग्लादेश सरकार द्वारा संचालित दो सरकारी शिविरों में से एक है। एक अन्य शिविर को नापारा कहा जाता है इन दो कैंपों में कुल 30,000 रोहंग्याई शरण लिऐ हैं।

वे लोग पहले समूहों में शामिल हैं जब 1992 में म्यांमार सेना द्वारा हिंसा की प्रारंभिक लहर से बचने के लिए भाग आऐ थे।

बांग्लादेश, एक आबादी वाले देश, 1992 से रोहिंग्या के आश्रय के इच्छुक लोगों को निलंबित कर रहा है और उम्मीद है कि कड़े पदों को अपनाने से उन्हें बांग्लादेश आने से रोक दिया जाएगा।

बांग्लादेश, एक आबादी वाला देश है, 1992 से रोहिंग्या के आश्रय के इच्छुक लोगों को रोक रहा है और उम्मीद थी कि कड़े ऐक़्दामात अपनाने से उन्हें बांग्लादेश आने से रोक दिया जाएगा।

2012 से, निरंतर हिंसा के परिणामस्वरूप, हजारों अन्य रोहिंगियाई बंगलादेश भाग गए हैं, और यह चाल वैसे ही जारी है उनमें से कुछ अनौपचारिक शिविरों में रहते हैं, कुछ बांग्लादेश के जंगलों में चले गए हैं और कई को बांग्लादेश सेनाओं द्वारा गिरफ्तार किया है और उन्हें वापस लौटा दिया गया है।

इस बीच, बांग्लादेश के शिविरों में रहने वाले रोहिंगिंयाई मुसलमान कुछ बेहतर स्थिति की वजह से पहले की तरह अपने धार्मिक अनुष्ठानों और प्रथाओं को जारी रखने की कोशिश कर रहे हैं।

बच्चों के लिऐ अरबी और पवित्र कुरान कक्षाओं को खुली हवा और कभी-कभी छोटे कमरे में स्थापित करते हैं।

वह लोग इसी तरह इन शिविरों में कम से कम सुविधाओं और मिट्टी और कीचड़ के साथ खुद के लिऐ मस्जिद बनाई और अपनी इबादत करते हैं।

बांग्लादेश में दर्ज रोहंगियाई शरणार्थियों की संख्या 30,000 है, लेकिन बांग्लादेश के अधिकारी अनुमान लगाते हैं कि 500,000 से अधिक रोहंगियाई लोग यहां रहते हैं जो चरम स्थितियों में जीवन बिता रहे हैं।

3638573

नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :
* captcha: