IQNA

16:58 - November 25, 2019
समाचार आईडी: 3474187
अंतर्राष्ट्रीय समूह: मलेशियाई शिया समुदाय पर बढ़ते दबाव और उनके धार्मिक केंद्रों पर लगातार हमलों के साथ, इस देश के शिया हर दौर से अधिक असुरक्षित महसूस करते हैं।

IQNA की रिपोर्ट फ्री मेलिजा टूडे के अनुसारः मलेशिया के शिया अल्पसंख्यकों के खिलाफ़ साल 2010 से हमले शुरू हुए और हाल के महीनों में तेज हो गए हैं, शियाओं के लिए एक भयावह माहौल बना दिया गया है।
 
हाल ही में दर्जनों शियाओं को मलेशिया में गिरफ्तार किया गया है, जिससे उनके बीच चिंता बढ़ गई है।
 
मलेशिया में चरमपंथी गुटों के बढ़ने के साथ, शिया लोग, जिनकी धार्मिक गतिविधियों पर दो दशकों से प्रतिबंध लगाया जा चुका है, पहले से कहीं अधिक दबाव में हैं।
 
देश के शियाओं में से एक सैय्यद मुहम्मद झोर राज्य में एक हुसैनियह में अशुरा के दिन प्रार्थना कर रहे थे, जब 20 पुलिस बलों ने इस हुसैनियह पर हमला किया। यह मलेशिया में शिया केंद्रों पर हाल के हमलों में से एक था।
 
वह कहते हैं, महिलाऐं और बच्चे हमले से घबराऐ हुऐ हैं, मास्क लगाऐ चार लोगों ने मुझ पर हमला किया। उनमें से एक के पास बंदूक थी और मुझ पर सहयोग न करने का आरोप लगाया।
 
सय्यद मोहम्मद, जिन्हें 7 अन्य लोगों के साथ गिरफ्तार किया गया था, जिसमें सिंगापुर का एक शिया और एक यमनी शिया शामिल है, चिंतित हैं कि उन्हें अदालत में दोषी ठहराया जा सकता है और इस सूरत में तीन साल तक की जेल का सामना करना पड़ सकता है।
 
कुआलालंपुर के पास एक क्षेत्र में एक अन्य हमले में, शिया नेता, कामिल ज़हीरी अब्दुल अज़ीज़, को 21 अन्य लोगों के साथ गिरफ्तार किया गया था जो प्रार्थना कर रहे थे।
 
मलेशियाई शियाओं की संख्या पर कोई आधिकारिक आंकड़े नहीं हैं, लेकिन कुछ स्रोतों का अनुमान है कि उनकी संख्या 100 से 500 हज़ार तक होगी।
 3859411
नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :