IQNA

17:20 - November 29, 2019
समाचार आईडी: 3474195
अंतर्राष्ट्रीय समूह- तुर्की के राष्ट्रपति ने चेतावनी दी है कि शिया और सुन्नियों को अलग धर्म के रूप में चित्रित करने की कोशिश करने वालों का लक्ष्य मुसलमानों में विभाजन पैदा करना है।

अनातोलिया समाचार एजेंसी के अनुसार IQNA की रिपोर्ट, तुर्की के राष्ट्रपति रजब तय्यब एर्दोग़ान ने अंकारा में "छठे काउंसिल ऑफ रिलिजन"समापन समारोह में टिप्पणी करते हुए कि कुछ समूह शिया और सुन्नियों को अलग धर्म के रूप में पहचानने की कोशिश कर रहे हैं कहा । वे मुसलमानों में विभाजन और टूकड़े चाहते हैं।
 
उन्होंने कहा: "कंसल्टेशन पैगंबर(स.व.) की परंपरा है जब हमने इसे भुला दिया तो हम पीछे होगऐ" पिछली दो शताब्दियों की समस्याओं का कारण परिषद की तुच्छता(यानि मश्विरा न करना) है।
 
तुर्की के राष्ट्रपति ने कहाः"दुर्भाग्य से, इस्लामी उम्माह ने समय गुज़रने के साथ समस्याओं को एकजुट करने और हल करने की क्षमता खो दी है," उन्होंने कहा। पश्चिमी राजधानियों में मुसलमान अपनी समस्याओं को ठीक करना चाहते हैं। इस तरह के दृष्टिकोण से मुसलमानों को कोई फायदा नहीं होगा। आधुनिक मनुष्य तकनीक के लाभों के बावजूद पहले से कहीं ज्यादा अकेला है।
 
रजब तय्यब एर्दोग़ान एर्दोगन ने यह भी कहा: "हम उन गतिविधियों और आंदोलनों को कभी अनुमति नहीं देंगे जो हमारे अलवी नागरिकों के लिए खतरा हैं।" हम पूरे देश में अपने भाईचारे को मजबूत करेंगे। देश के धार्मिक मामलों के संगठन ने अलवी नागरिकों के बारे में जो सकारात्मक कदम उठाए हैं, हम उनका बारीकी से पालन कर रहे हैं।
3860311
नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :