IQNA

चीनी मुस्लिम स्थिति पर मलेशियाई विश्वविद्यालय का शोध

16:57 - December 31, 2019
समाचार आईडी: 3474293
अंतर्राष्ट्रीय समूह - एक मलेशियाई विश्वविद्यालय, चीन सरकार द्वारा उइघुर अल्पसंख्यकों के उत्पीड़न व अत्याचार के बारे में जारी समाचार के बारे में सच्चाई की तलाश कर रहा है।

Benar News،के अनुसार IQNA की रिपोर्ट, मलेशिया विदेश मामलों के मंत्री सैफुद्दीन अब्दुल्लाह ने कहा: इंटरनेशनल इस्लामिक यूनिवर्सिटी ऑफ मलेशिया से संबद्धित इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ इस्लामिक थॉट एंड सिविलाइजेशन (ISTAC) झिंजियांग क्षेत्र में चीनी सरकार की ओर से उइगर मुस्लिमों के अधिकारों के उल्लंघन की जारी समाचार रिपोर्टों के बारे में सच्चाई की जांच कर रही है।
 
अब्दुल्ला ने संवाददाताओं से कहा कि मलेशिया न तो चीनी सरकार की रिपोर्टों का आँख बंद करके समर्थन करेगा और न ही चीन की खुले तौर पर आलोचना करेगा, लेकिन वहां जो कुछ चल रहा था, उसकी रिपोर्टों के बारे में सच्चाई का पता लगाना चाहता है।
 
उन्होंने कहा। हमें इस पर गौर करने की ज़रूरत है, उदाहरण के लिए, शिनजियांग में अलगाववादी आंदोलन और इस मुद्दे(चीनी सरकार द्वारा मुसलमानों का दमन)।में आतंकवाद शामिल था या नहीं।
 
मलेशिया की इंटरनेशनल इस्लामिक यूनिवर्सिटी की स्थापना 1980 के दशक में सेलांगर प्रांत में इस्लामिक विचार, संस्कृति और सभ्यता में एक प्रमुख अंतरराष्ट्रीय अनुसंधान केंद्र बनने के उद्देश्य से की गई थी। मलेशिया और कई मुस्लिम-बहुल देश, जिनमें सऊदी अरब, मिस्र, तुर्की, बांग्लादेश और पाकिस्तान शामिल हैं, विश्वविद्यालय के प्रायोजक हैं।
 
अप्रैल 2017 के बाद से, चीन झिंजियांग मुस्लिम अल्पसंख्यक समूह के सदस्यों का जो कि इस देश की सरकार के दावों के मुताबिक़ अत्यधिक धार्मिक विश्वास और राजनीतिक विश्वास रखते हैं, दमन किया है, और उन्हें प्रशिक्षण शिविरों के एक विशाल नेटवर्क पर जो वास्तव में निरोध केंद्र हैं भेजता है, ।
3867888
नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :
* :