IQNA

मुस्लिम विद्वानों के विश्व संघ के महासचिव:
15:57 - April 05, 2020
समाचार आईडी: 3474619
तेहरान (IQNA),मुस्लिम विद्वानों के विश्व संघ के महासचिव अली क़ुर्रह दाग़ी ने एक फ़तवे में कहा कि कोरोना पीड़ितों को बचाने के लिए रमज़ान की प्राकृतिक ज़कात को भुगतान को पहले देने की आवश्यकता पर जोर दिया।

अनातोली अरबी के हवाले से, वर्ल्ड यूनियन ऑफ मुस्लिम स्कॉलर्स के महासचिव ने कहाः ज़कात फ़ित्रह जिसे कई मुसलमान रमजान के दौरान भुगतान करना पसंद करते हैं वर्तमान समय में भुगतान करना प्राथमिकता रखता है।
 
अल-जज़ीरा लाइव उपग्रह चैनल के एक दर्शक के सवाल का जवाब दे रहे क़ुर्रह दाग़ी ने कहा: अभी सबसे अच्छा काम और मुस्तहब यह है कि फ़ितरे के भुगतान को पहले करदें, क्योंकि पैगंबर (PBHH) ने अपने चाचा अब्बास (अरब व्यापारियों में से अब्बास बिन अब्दुलमुत्तल्बि) को आगे कर दिया था।
 
वर्ल्ड यूनियन ऑफ मुस्लिम स्कॉलर्स के महासचिव ने जोर देकर कहा कि गरीबों कि ग़ुरबत उन पर मुसल्लत हैं और कोरोना के शिकार लोग के लिऐ जकात और भिक्षा को पहले अदा कर देना रमजान में देने से बेहतर समझते हैं और यह एक धार्मिक आदेश है।
 
याद रहे कि अल-अक्सा मस्जिद के उपदेशक शेख अकरमा सबरी, मिस्र के दार अल-इफ्ता और तुर्की धार्मिक संगठन ने भी पूर्व में रमजान की शुरुआत से पहले कोरोना से निपटने के लिए जकात अल-फितरह (फितरियह) का भुगतान करने की अनुमति की घोषणा की थी।
3889196

नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :
* captcha: