IQNA

15:50 - June 22, 2021
समाचार आईडी: 3476068
तेहरान (IQNA) यमनी कार्यकर्ता और नोबेल शांति पुरस्कार विजेता ने ब्रिटिश अधिकारियों से लंदन में संयुक्त अरब अमीरात के एक असंतुष्ट की संदिग्ध मौत की जांच करने का आह्वान किया।

एकना ने रूस टुडे के अनुसार बताया कि यमनी कार्यकर्ता और नोबेल शांति पुरस्कार विजेता तवक्कुल किरमान ने अमीराती कार्यकर्ता अला अल-सिद्दीक की मृत्यु पर शोक व्यक्त करते हुए ब्रिटिश अधिकारियों से इस घटना की जांच करने का आग्रह किया, जिसके कारण लंदन में उनकी मृत्यु हुई।
किरमान ने ट्विटर पर कहा,कि  "अला अल-सिद्दीक" की मृत्यु के साथ, संयुक्त अरब अमीरात और अरब दुनिया ने एक बहादुर व्यक्ति को खो दिया, जो स्वतंत्रता, न्याय और मानवाधिकारों के मूल्यों का बचाव करता था।
उन्होंने कहा: कि "अला अल-सिद्दीक" की मौत का जो भी कारण हो लेकिन मानवाधिकार रक्षकों के लिए एक झटका है, उस मुद्दे पर प्रकाश डालना है जिसे मैंने खुद को समर्पित किया है, अर्थात् संयुक्त अरब अमीरात और अरब दुनिया में राजनीतिक कैदियों की रिहाई।
उन्होंने जारी रखते हुए कहा कि: "इस रहस्यमय तरीके से "अला अल-सिद्दीक" की मौत के लिए ब्रिटिश अधिकारियों को यह जांच करने की आवश्यकता है कि क्या दुर्घटना जिसके कारण उनकी मृत्यु हुई थी, पूर्व नियोजित थी।
कहा ग़या है कि लंदन में अल-कस्त इंस्टीट्यूट फॉर ह्यूमन राइट्स के कार्यकारी निदेशक "अला अल-सिद्दीक" की शनिवार को एक संदिग्ध कार दुर्घटना में मौत हो गई। "अला अल-सिद्दीक" संयुक्त अरब अमीरात में राजनीतिक कैदियों के अधिकारों के लिए काम करते थे।
यह मानवाधिकार कार्यकर्ता ब्रिटिश सरकार से राजनीतिक शरण लेने से पहले कुछ समय के लिए कतर में रहे। हालांकि, उन्होंने हाल ही में औपचारिक रूप से यूएई सरकार से अपने देश लौटने का अनुरोध किया था।
"अला अल-सिद्दीक" के मानवाधिकार कार्य और संयुक्त अरब अमीरात में कैदियों के लिए समर्थन ने कई विशेषज्ञों और राजनीतिक पर्यवेक्षकों को एक कार दुर्घटना में उनकी मृत्यु पर सवाल उठाने के लिए प्रेरित किया है।
ह्यूमन राइट्स वॉच में मध्य पूर्व और उत्तरी अफ्रीका की वकील और निदेशक सारा ली व्हिटसन ने कहा कि "ब्रिटिश सरकार को हमें आश्वस्त करना चाहिए कि "अला अल-सिद्दीक" के खिलाफ कोई अपराध नहीं किया गया है।
3979233

 

नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :
* captcha: