IQNA

लेबनानी कार्डिनल:

ईरान दमन विरोध और धर्मों के सह-अस्तित्व का एक मॉडल है

15:10 - December 26, 2021
समाचार आईडी: 3476863
तेहरान(IQNA)जबल लेबनान और त्रिपोली के रूढ़िवादी कार्डिनल जॉर्ज सलीबा ने कहा: ईरान ने उत्पीड़ितों का समर्थन और एकेश्वरवादी धर्मों के अनुयायियों के साथ ईमानदारी से व्यवहार करके दमन विरोधी और शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व का एक अनुकूल मॉडल प्रदान किया है।
लेबनान में ईरानी सांस्कृतिक सलाहकार के अनुसार, नए साल की पूर्व संध्या पर, जॉर्ज सलीबा, जबल लेबनान और त्रिपोली के रूढ़िवादी कार्डिनल, (कार्डिनल; पोप के बाद सर्वोच्च कैथोलिक पद)  बेरूत में एक सांस्कृतिक परामर्श स्थल पर उपस्थित होकर अब्बास ख़ामेहयार ईरानी सांस्कृतिक सलाहकार के साथ मिले और बात की।
 
जॉर्ज सलीबा ने सांस्कृतिक क्षेत्र में ईरान के सांस्कृतिक सलाहकार के कार्यों की सराहना करते हुए, दुनिया के उत्पीड़ितों का समर्थन करने में इस्लामी गणराज्य ईरान की स्थिति की प्रशंसा की और कहा: " इस्लामी गणराज्य ईरान ने हमेशा उत्पीड़कों के खिलाफ उत्पीड़ितों का समर्थन किया है और उनमे सबसे आगे संयुक्त राज्य अमेरिका रहा है।"
सलीबा ने कहा: "उत्पीड़ितों का समर्थन करके और एकेश्वरवादी धर्मों के अनुयायियों के साथ ईमानदारी से व्यवहार करके, ईरान ने एकेश्वरवादी धर्मों के अनुयायियों के बीच दमन विरोध और शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व का एक अनुकूल मॉडल प्रदान किया है।"
ایران الگوی ظلم‌ستیزی و همزیستی ادیان است
लेबनान के कार्डिनल ने कहा कि विभिन्न धर्मों और संप्रदायों के अनुयायियों के बीच संबंधों का विकास समाजों में उद्देश्यपूर्ण और रचनात्मक संवाद की संस्कृति को पुनर्जीवित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
 
लेबनान में ईरान के सांस्कृतिक सलाहकार अब्बास ख़ामेहयार ने भी जॉर्ज सलीबा को ईसाई नव वर्ष की अभिनंदन और बधाई देते हुए कहा: " इस्लामी गणराज्य ईरान ज़ालिमों और उपनिवेशवादों के खिलाफ स्वतंत्र राष्ट्रों का समर्थन करता है और एकेश्वरवादी धर्मों के अनुयायियों के बीच एकजुटता और सहानुभूति पैदा करना चाहता है।
 
ख़ामेहयार ने कहा: "नव-उपनिवेशवाद की धमकियों और साजिशों को बेअसर करना ईरान की निरंतर नीतियों में से एक है, इसलिए इस्लामिक रिपब्लिक ऑफ ईरान स्वर्गीय धर्मों के अनुयायियों को भाईचारे के लिए आमंत्रित करता है और क्षेत्र के राष्ट्रों के बीच किसी भी विभाजनकारी कारक के खिलाफ लड़ता है।
लेबनान में ईरानी सांस्कृतिक परामर्शदाता ने ईसाई-इस्लामी संबंधों को मजबूत और गहरा करने में बौद्धिक और सामाजिक समझौता ज्ञापन सहित एक व्यापक और संयुक्त सांस्कृतिक परियोजना शुरू करने के लिए सांस्कृतिक परामर्शदाता की तत्परता की घोषणा की।
अंत में, लेबनान में ईरान के इस्लामी गणराज्य के सांस्कृतिक परामर्शदाता ने स्मारक के तौर पर जॉर्ज सलीबा को न्यू टेस्टामेंट की सबसे पुरानी पांडुलिपियों में से एक (सीरियाक में ईसाई धर्म की पवित्र पुस्तकों से) प्रस्तुत की और जॉर्ज सलीबा ने भी अपनी काम की कई पुस्तकें ख़ामेहयार को दान कीं।

ایران الگوی ظلم‌ستیزی و همزیستی ادیان است

ایران الگوی ظلم‌ستیزی و همزیستی ادیان است4023524

नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :
captcha