IQNA

15:05 - January 23, 2022
समाचार आईडी: 3476966
तेहरान (IQNA) इस्लामाबाद, रावलपिंडी में अल-महदी (अ0) दारुल कुरान संस्थान के सहयोग से पाकिस्तान में ईरानी सांस्कृतिक घर द्वारा हजरत ज़हरा (स0) के जन्मदिन और महिला दिवस के अवसर पर उत्सव आयोजित किया गया।

एकना के अनुसार रावलपिंडी शहर में ईरान की संस्कृति सभा के सभा भवन में महिला विचारकों और वैज्ञानिक और धार्मिक बुद्धिजीवियों की मौजूदगी में समारोह का आयोजन किया गया।
अल-महदी (अ0) दारुल कुरान संस्थान, जो इस्लामाबाद शहर में पवित्र कुरान को पढ़ाने के क्षेत्र में सबसे सक्रिय संस्थानों में से एक है, ने इस समारोह के आयोजन में भाग लिया,यह संस्थान महिलाओं के लिए है और इसकी प्रमुख सुश्री "वसीमा हमदानी"हैं।
इस्लामाबाद में ईरानी सांस्कृतिक सलाहकार के अनुसार, समारोह में हज़रत फ़तेमा ज़हरा (स0) की स्थिति और महानता के बारे में इमाम खुमैनी (र0) और इस्लामी क्रांति के सर्वोच्च रहबर अयातुल्ला खामनई के बयानों पर आधारित एक वीडियो क्लिप प्रतिभागियों के लिए प्रसारित की ग़ई। इसी तरह साथ ही साथ उन व्यक्तियों के लिए जिन के नाम ज़हरा, फ़तेमा या हज़रत ज़हरा (स0) के अल्क़ाब में से एक थे, उनको पुरस्कार प्रदान किए गए।
इस कार्यक्रम में पाकिस्तान में ईरान के सांस्कृतिक सलाहकार एहसान खज़ाई ने तकरीर किया।
सुश्री "सैय्यदा तैयबा बुखारी", एक प्रसिद्ध वक्ता और पाकिस्तान में धार्मिक और सामाजिक मामलों में सक्रिय महिलाओं में से एक हैं, इस समारोह के विशेष अतिथि के रूप में, हज़रत फ़तेमा ज़हरा (स0) के मुबारक जन्म के अवसर पर बधाई देते हुए अल्लामा इकबाल लाहौरी के द्वारा वर्णन करते हुए कविताओं का पाठ करते हुए उन्होंने कहा: यदि अल्लामा इकबाल एक चरित्र से प्रभावित थे, तो इस्लाम के पैगंबर (PBUH) की प्यारी बेटी हज़रत फ़तेमा ज़हरा (स0) थीं।
रावलपिंडी शहर के प्रमुख सुन्नी विचारकों में से एक "आयशा नदीम" ने भी कहा: कि "हज़रत फातिमा (स0) की स्थिति के लिए यह पर्याप्त है कि इस्लाम के पवित्र पैगंबर (PBUH) आप के सम्मान में उठते थे। आपका जीवन इस्लामी दुनिया की सभी महिलाओं के लिए एक स्पष्ट उदाहरण है।

 


4030620

नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :
* captcha: