IQNA

नमाज़ और काम्याबी के बीच संबंध

15:48 - May 14, 2022
समाचार आईडी: 3477322
तेहरान(IQNA)«حیّ على الفلاح» के बारे में, जो अज़ान और इक़ामत के आह्वान के छंदों में से एक है, सवाल उठता है कि क्या "नमाज़" भलाई और काम्याबी है, और यह भलाई की ओर कैसे ले जाती है?

कुरान में, "फ़लाह" शब्द का प्रयोग अलग-अलग तरीकों से किया गया है। उदाहरण के लिए, सूरह अल-मोमिनून आयत «قَدْ أَفْلَحَ الْمُؤْمِنُونَ» (अल-मुमिनुन / 1); के साथ शुरू होता है और सूरह अल-बक़रह में, भगवान द्वारा परहेज़गारों का परिचय देने के बाद, कहता है: «أُولئِكَ عَلى هُدىً مِنْ رَبِّهِمْ وَ أُولئِكَ هُمُ الْمُفْلِحُونَ»؛ (बक़रह / 5)। फलाह का उपयोग सआदत और काम्याबी के लिए किया जाता है; जैसा कि श्लोक «... قَدْ أَفْلَحَ الْیَوْمَ مَنِ اسْتَعْلى») (طه/ 20में भी स्पष्ट है.
हर कोई स्वाभाविक रूप से तथाकथित "खुश्बख़्ती" में खोया हुआ है और कोई भी ऐसा नहीं पाया जा सकता जो इसकी तलाश में ना हो।
मनुष्य का अंतिम लक्ष्य और खुश्बख़्ती भगवान के करीब होना है और उस तक पहुंचने का तरीका, भगवान की ओर ध्यान देना है और उसका पालन करना, लेकिन इस राह में, भौतिक जीवन की आवश्यकताओं ने मनुष्य के हाथ और पैर बांध दिए हैं और उसे पूर्णता की ओर आगे बढ़ने और भगवान के निकट होने से रोक दिया है।
भगवान ने हमें परम पूर्णता तक पहुंचने के लिए बनाया है।
सबसे अच्छा कारक जो मनुष्य को इन कठिनाइयों से बचा सकता है, वह है ईश्वर की याद, और ईश्वर के स्मरण का सबसे अच्छा संकेत नमाज़ में महसूस होता है। इसलिए, यदि यह कहा जाए कि "नमाज़ कल्याण और मोक्ष का कारण है", तो इसका अर्थ है कि नमाज़ मनुष्य को प्रदूषण और भौतिक वस्तुओं और शैतान के बंधन से मुक्त कर सकती है और उसे मानव जीवन के मुख्य मार्ग पर ले जा सकती है, जो मानव आध्यात्मिक विकास का मार्ग है..
परमेश्वर ने कहा: .إِنَّ الصَّلاةَ تَنْهى عَنِ الْفَحْشاءِ وَ الْمُنْكَرِ وَ لَذِكْرُ اللهِ أَكْبَرُ» (अंकबूत / 29) और दूसरी जगह मूसा को संबोधित करते हुऐ कहाः «وَ أَقِمِ الصَّلاةَ لِذِكْرِی» (طه/ 20).
मोहम्मद तक़ी मेस्बाह यज़्दी (1935-2021), न्यायविद, दार्शनिक, कुरान पर टिप्पणीकार और ईरान में क़ुम के मदरसा के विचारकों और प्रोफेसरों में से एक की पुस्तक "तेरी ओर" के अंश, जिन्होंने इस्लामी विज्ञान पर कई आषार लिखे हैं, जिसमें कमेंट्री, दर्शन, नैतिकता और इस्लामी ज्ञान शामिल हैं।
कीवर्ड: प्रार्थना - अज़ान - मोक्ष - कल्याण - भगवान का स्मरण - खुश्बख़्ती

नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :
* :