IQNA

"इस्लाम जिंदाबाद" कहने पर गोली मारने का अधिकार किसने दिया?

16:41 - June 21, 2022
समाचार आईडी: 3477455
`तेहरान (IQNA) हौज़ा / "माँ का दिल जल रहा है, लेकिन उसे गर्व है कि उसके बेटे ने पैगंबर (स.अ.व.व.) के लिए अपनी जान दे दी।"
 

हौजा न्यूज एजेंसी के अनुसार, पवित्र पैगंबर मुहम्मद मुस्तफा (स.अ.व.व.) के अपमान के खिलाफ झारखंड की राजधानी रांची में शुक्रवार को एक विरोध रैली के दौरान पुलिस ने एक 16 वर्षीय व्यक्ति की गोली मारकर हत्या कर दी। मुदस्सिर की मां ने अपने बेटे की मौत का शहादत के रूप में वर्णन किया ।

अपने इकलौते बेटे के अचानक अलग होने पर आहें और आंसुओं के बीच, इस महान माँ ने अपने दुःख में, पैगंबर (स.अ.व.व.) के लिए अपने प्यार का प्रदर्शन इस तरह से किया कि उनके सुनने वाले भी अपने आंसू नहीं रोक सके। गर्मी में, यह महिला पवित्र पैगंबर (स.अ.व.व.) के सम्मान को नहीं भूली।

लोकप्रिय हिंदी टेलीविजन चैनल 'आज तक' के संवाददाता को जब इस मां से अपना दुख पता चला तो इस महान मां ने, जो पढ़ी-लिखी या अमीर नहीं लगती थी, लेकिन हमारे नेताओं की तरह जुमे की नमाज अदा की। मुसलमानों ने इस घटना के लिए या अपने बच्चे के विरोध का हिस्सा नहीं होने पर रोते हुए अपने बेटे को शहीद घोषित कर दिया।

माँ ने दिल सोज रूप से रिपोर्टर से पूछा, "बच्चे के साथ क्या गलत था? क्या पुलिस को गोली मारने की इजाजत है अगर वे अपने अधिकारों के लिए बोलते हैं? इस्लाम जिंदाबाद, इस्लाम जिंदाबाद, इस्लाम जिंदाबाद जिंदाबाद बोलने से!" क्या पुलिस को गोली मारने का अधिकार है? उसे अधिकार किसने दिया? कहाँ सो रही है सरकार?

इस्लाम ज़िन्दाबाद, इस्लाम ज़िन्दाबाद, इस्लाम ज़िन्दाबाद! कोई सरकार या विश्व शक्ति इसे रोक नहीं सकती। मेरा 16 साल का बच्चा, मेरा लड़का इस्लाम के लिए शहीद हो गया है। इस माँ को गर्व है। इस माँ को गर्व है कि उसने पवित्र पैगंबर की खातिर अपनी जान दे दी। उन्हें शहीद का दर्जा प्राप्त है। मुझे कोई पछतावा नहीं है।

जिसने मारा है उसे सजा मिलनी चाहिए। तुम इस सरकार को बताओ, इस माँ का दिल बहुत जल रहा है। मेरा सिर्फ एक बच्चा था, मेरे बच्चों में और कोई नहीं, जिसने इतनी शक्ति दी। इस्लाम अगर जिंदाबाद बोलता है तो गोली मार दो। भीड़ नहीं है, सिर्फ मेरा बेटा दिख रहा है। क्यों मारते हो,?

source: hawzahnews

नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :
captcha