IQNA

मिस्र द्वारा सिले हुए कुरान के बस्ते; एक भूली हुई कला

14:50 - November 24, 2022
समाचार आईडी: 3478140
तेहरान (IQNA):कुरान ले जाने के लिए विशेष बैग सिलाई की हुनरमंदी और उसकी अहमियत के पहलुओं का जिक्र करते हुए, मिस्र के कलाकार ने मिस्र में इस पेशे की गिरावट की घोषणा की।

कुरान ले जाने के लिए विशेष बैग सिलाई की हुनरमंदी और उसकी अहमियत के पहलुओं का जिक्र करते हुए, मिस्र के कलाकार ने मिस्र में इस पेशे की गिरावट की घोषणा की। 

मिस्र के एक चालीस वर्षीय कलाकार हसन ईसा, जो बचपन से ही इस पेशे में शामिल रहे हैं और अब काहिरा के पुराने शहर की तंग गलियों में से एक में एक छोटी कार्यशाला में कुरान की थैलियों की सिलाई कर रहे हैं, ने मिस्र में इस पेशे की तेज गिरावट के बारे में बताता है।

हसन का कहना है कि इस पारंपरिक पेशे में काम करने के लिए बहुत खास और विशेष कलाकारी की आवश्यकता होती है ताकि एक ऐसा बस्ता सिल सकें जो पवित्र कुरान के शायाने शान हो और अल्लाह की किताब की सुंदरता को दर्शाता हो।. उनके अनुसार इन कौशलों में विशेष कटिंग, सिलाई की क्वालिटी, छपाई और उस पर लिखने की तकनीक और अंत में एक विशेष सिलाई शामिल है।

जमालिया मोहल्ले में हसन तीस साल से अधिक समय से इस पेशे में लगे हुए हैं और इस पेशे में बहुत कुशल हो गए हैं, लेकिन उनका कहना है कि हाल के वर्षों में इस पेशे में काफी गिरावट आई है।

मिस्र के इस कलाकार के अनुसार, सऊदी अरब इस महसूल का सबसे बड़ा 

खरीदार है, लेकिन हाल ही में मिस्र में, केवल विशेष लोग, विशेष रूप से बुकस्टोर के मालिक ही इस महसूल के ग्राहक हैं।

हसन इस्सा के अनुसार, यह पेशा, कई अन्य दस्तकारी पेशों की तरह, खत्म होने की कगार पर है। उनके अनुसार इसका कारण कच्चे माल की ऊंची कीमत और लोगों की क्रय शक्ति में कमी होना चाहिए।

https://iqna.ir/fa/news/4101212

 

नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :
captcha