IQNA

16:30 - August 26, 2019
समाचार आईडी: 3473914
अंतरराष्ट्रीय समूह- भारत नियंत्रित कश्मीरी शियों ने हाल के इस क्षेत्र में तनावों और तीव्र दमन के मद्देनजर मुहर्रम और अशूरा पर शोक मनाने की असंभवता पर चिंता व्यक्त की है।

हिंदुस्तान टाइम्स के अनुसार IQNA की रिपोर्ट, कश्मीर में लगातार संचार में कटौती और कर्फ़ियु नियमों के लागू होने को देखते हुए वहां के शिया चिंतित हैं कि वे इस साल मोहर्रम का शोक नहीं मना पाएंगे।
 
वे लोग इसी तरह कश्मीरी शिया समुदाय के प्रमुख इमरान रजा अंसारी की गिरफ्तारी पर भी पश्चाताप व्यक्त करते हैं, और कहते हैं कि उन्होंने हाल के दिनों में उनसे बार-बार मिलने और मुहर्रम की रस्म के बारे में बात करने की कोशिश की लेकिन ऐसा करने में असफल रहे हैं।
 
कश्मीर के पूर्व सूचना और प्रौद्योगिकी मंत्री, इमरान रज़ा अंसारी, हाल ही में कार्रवाई के दौरान हिरासत में लिए गए कश्मीरी कार्यकर्ताओं में से ऐक हैं।
 
सिरीनगर शहर (मध्य कश्मीर) के एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी के अनुसार, उन्हें जल्द ही रिहा किया जाना है और शोक की तैयारी के लिए क्षेत्र के अन्य शिया नेताओं के साथ परामर्श करने के लिए उनके घर स्थानांतरित किया जाऐगा।
 
उन्होंने कहा कि मुहर्रम के शोक कार्यक्रम रद्द करना एजेंडे में नहीं है और इन कार्यक्रमों में अनजाने में होने वाली घटनाओं को रोकने के लिए उपाय किए जा रहे हैं।
 
जम्मू-कश्मीर के विशेष विशेषाधिकार रद्द करने के बाद से पुलिस ने 4,000 से अधिक कश्मीरियों को गिरफ्तार किया है। पिछले कुछ दिनों में कश्मीर के विभिन्न इलाकों में स्थानीय लोगों और सुरक्षा बलों के बीच कई झड़पें हुई हैं।
 
भारत के प्रधान मंत्री ने 5 अगस्त को जम्मू-कश्मीर क्षेत्र की सापेक्ष स्वायत्तता और विशेष अधिकारों को समाप्त करने के अपने फैसले की घोषणा की। भारत के संविधान के अनुच्छेद 370 के अनुसार, इस क्षेत्र को रक्षा और विदेशी मामलों को छोड़कर अन्य चीज़ों में विशेष शक्तियां प्राप्त थीं।
3837534
नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :