IQNA

13:31 - December 03, 2019
समाचार आईडी: 3474207
इंटरनेशनल ग्रुप- फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन ने समाजिक ट्विटर अकाउंट पर जेल में एक प्रमुख सऊदी मौलवी की मौत की घोषणा की।

अल जज़ीरा नेट समाचार साइट के हवाले से IQNA की रिपोर्ट,"प्रिजनर्स ऑफ फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन" के एक ट्विटर अकाउंट में जो सऊदी अरब में कानूनी मुद्दों पर काम करने वाला है लिखाः शेख़ फ़हद अल-काज़ी सऊदी मौलवी और प्रचारक 2016 से सऊदी अरब की जेल में बंद थे चिकित्सा की कमी के कारण उनकी मृत्यु हो गई।
 
ट्वीट में लिखा है: जानबूझकर चिकित्सा की उपेक्षा के परिणामस्वरूप शेख अल-काजी ने अपना जीवन खो दिया। हालाँकि गंभीर बीमारी के कारण उन्हें एक सप्ताह से अधिक समय तक चिकित्सा की आवश्यकता थी, लेकिन उनकी मृत्यु के कुछ घंटे पहले ही उन्हें अस्पताल में स्थानांतरित किया गया।
 
इस सऊदी परचारक को अपने गुप्त भाषण और सऊदी रॉयल कोर्ट को नसीहत के बाद 6 साल की जेल की सजा सुनाई गई थी।
 
अपने कारावास के दौरान उन्हें कई यातनाएँ झेलनी पड़ीं, और उनकी मृत्यु से पहले जानबूझकर चिकित्सकीय उपेक्षा के कारण उनका स्वास्थ्य बिगड़ गया था।
 
अल-काज़ी परिवार, जिसका सऊदी अरब के अल-क़सीम क्षेत्र में उच्च प्रभाव है, सऊदी अधिकारियों द्वारा लापरवाही बरतने और उसकी मौत में शामिल होने का आरोप लगाया गया है।
 
शेख अल-काज़ी सऊदी अल-सहवा (धार्मिक जागरण) आंदोलन और धार्मिक मामलों के विद्वानों में से एक थे, जिन्हें अदालत ने 2016 में बादशाही दरबार को सलाह देने के कारण गिरफ्तार किया और 6 साल की कैद की सजा सुनाई।
 
वह 64 साल के थे और सऊदी अरब के मुहम्मद बिन सऊद विश्वविद्यालय में धर्मशास्त्र और धर्म सिद्धांतों के संकाय में स्नातक था यह सऊदी मौलवी शिक्षण और अध्यापन में सक्रिय थे, और सऊद के प्रचार और दमन के लिए सोसाइटी में भी कार्य करते थे।
 
फ्रीडम ऑफ स्पीच कैदियों के खाते में रियाद की राजेही मस्जिद में सऊदी मौलवी के अंतिम संस्कार की तस्वीरें पोस्ट की गईं।
3861337
नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :