IQNA

17:06 - December 22, 2019
समाचार आईडी: 3474262
अंतरराष्ट्रीय समूह- गांधी की पोते, उन प्रमुख हस्तियों में से एक हैं जिन्होंने नए नागरिकता कानून के ख़िलाफ़ प्रदर्शनकारियों का समर्थन किया है और कानून को निरस्त करने का आह्वान किया है।

द गार्डियन के अनुसार IQNA की रिपोर्ट; भारतीय स्वत्रंता नेता महात्मा गांधी के पोते तुषार अरुण गांधी देश के नागरिकता कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन में शामिल होने वाले नवीनतम सेलिब्रिटी हैं।
 
तुषार गांधी ने कहा: स्वतंत्र भारत में पहली बार, कानून धर्म के आधार पर भेदभाव को लागू करने की कोशिश की जा रही है।
 
तुषार गांधी, जो अपने दादा की विरासत को बढ़ावा देने और मुंबई में महात्मा गांधी फाउंडेशन को चलाने के लिए अपना अधिकांश जीवन समर्पित करते हैं, ने कहा: "नए नागरिकता कानून के पारित होने के साथ,सब कुछ बदल गया है। 10 साल के भीतर, यह देश अब भारत नहीं रहेगा। यह एक तानाशाही सरकार होगी, जो लोकतांत्रिक प्रक्रिया का उपयोग करेगी और यह खतरनाक है।
 
पिछले हफ्ते भारतीय संसद द्वारा पारित नया नागरिकता कानून, गैर-मुस्लिम शरणार्थियों को जो पांच साल से भारत में रहते हैं भारत में बसने देता है, लेकिन मुसलमानों को इस अधिकार के लिऐ मान्यता नहीं देते हैं। कई लोग मानते हैं कि कानून मुसलमानों के खिलाफ भेदभावपूर्ण है और उन्हें दूसरे दर्जे का नागरिक बनाता है।
3865802
नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :