IQNA

13:54 - January 15, 2020
समाचार आईडी: 3474359
अंतर्राष्ट्रीय समूह - भारत में नागरिकता कानून का विरोध करने वालों ने, जिसे मुसलमान भेदभावपूर्ण मानते हैं, घोषणा की है कि जब तक कानून को निरस्त नहीं किया जाता, वे विरोध जारी रखेंगे।

अल-जज़ीरा के अनुसार IQNA की रिपोर्ट; पिछले ऐक महीने से दिल्ली के शाहीन बाग इलाके में बड़ी संख्या में घूंघट वाली मुस्लिम महिलाओं सहित हजारों प्रदर्शनकारी विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। वे लोग नागरिकता कानून का विरोध कर रहे हैं जो पिछले महीने पारित और कार्यान्वित किया गया था।
 
यह कानून बांग्लादेश, अफगानिस्तान और पाकिस्तान के देशों के अत्याचारित अल्पसंख्यकों हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन और ईसाई अनुयायियों को भारतीय नागरिकता की इजाजत दी गई है, लेकिन मुसलमानों को छोड़ दिया गया है।
 
कई हिंदू उदारवादी कार्यकर्ता भी इस कानून का विरोध करने वालों के समर्थन में शामिल हो गए, उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी की राष्ट्रवादी सरकार नागरिकता पर लोगों के धर्म को आधार बनाकर देश के समाज में अंतर लाने की कोशिश कर रही है।
 
बिलक़ीस  प्रदर्शन में भाग लेने वाली महिलाओं में से एक का कहना है, "हम मोदी सरकार द्वारा पारित एक नए कानून का विरोध करने के लिए सड़क पर हैं," कानून का उद्देश्य मुसलमानों को लक्षित करना और हमारे बच्चों को शिविरों में भेजना है। हम न्याय मांग रहे हैं और हम तब तक चैन से नहीं बैठेंगे जब तक इस कानून को निरस्त नहीं किया जाता।
 
नए नागरिकता अधिनियम ने, जो पूरे भारत में नागरिकता दर्ज करने के प्रस्ताव के साथ आया था, देश में 200 मिलियन से अधिक मुसलमानों को चिंतित कर दिया है।
3871746
नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :