IQNA

15:52 - May 11, 2020
समाचार आईडी: 3474737
तेहरान (IQNA) मिस्र में अल-अजहर विश्वविद्यालय में तुलनात्मक न्यायशास्त्र के प्रोफेसर ने कहा: कि "वर्तमान में, आतंकवादी समूह पवित्र कुरान की आयतों को अपने झूठे विचारों को फैलाने के लिए एक उपकरण के रूप में उपयोग कर रहे हैं और आपराधिक इरादों को प्राप्त करने के लिए कुरान की आयतों को एक खिलौने के रूप में उपयोग कर रहे है।

इकना ने बवाबतुल एहराम के अनुसार बताया कि अल-अजहर विश्वविद्यालय में तुलनात्मक न्यायशास्त्र के प्रोफेसर साअद अल-दीन-हिलाली ने मिस्र के पहले टेलीविजन चैनल पर एक टेलीविजन कार्यक्रम के साथ टेलीफोन पर बातचीत में जोर दिया: कि आतंकवादी कुरआन की आयत «لماذا یقاتلوننا»  (वे हमें क्यों मारते हैं) बढ़ावा देते हैं।
 उन्होंने कहा कि "आतंकवादी धर्म का व्यापार करते हैं, आतंकवादी अपने झूठ और अपशब्दों के लिए कुरान की आयतों का उपयोग करते हैं ,इसलिए मिस्र की सरकार को आतंकवाद से लड़ना चाहिए। इस्तेमाल करते हैं, इसलिए मिस्र की सरकार को आतंकवाद से लड़ना चाहिए क्योंकि उन्होंने हमें ईश्वर की परंपरा को निभाने से मना किया है, जो भूमि का बंदोबस्त है, और व्यक्तियों के धर्म का पता लगाने के अधिकार को रोकती है।
 इस संबंध में शेख अहमद अल-मलिकी, मोहक्किके अल-अजहर ने भी सैटेलाइट नेटवर्क "एक्सट्रा न्यूज" के साथ एक वीडियो साक्षात्कार में कहा: कि "आतंकवादी और तक्फिरी समूह इस्लाम की अवधारणाओं को नहीं समझते हैं और उन्हें सीखने का अवसर खो दिया है। वे अपनी वासनाओं और इच्छाओं के अनुसार कुरान की आयतों की अपनी इच्छाओं को प्राप्त करने के लिए व्याख्या करते हैं।
 अल-मालेकी ने जोर दिया: कि तकफिरि पवित्र कुरान को गलत समझते हैं और अपनी सोच से तफ्सीर करते हैं। इसलिए, हमें युवा पीढ़ी को तकफिरी विचारों से संक्रमित होने से रोकना चाहिए।
3898080
नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :
* captcha: