IQNA

15:38 - May 29, 2020
समाचार आईडी: 3474790
तेहरान (IQNA) जॉर्डन संसद में फिलिस्तीनी आयोग के प्रमुख ने अपने भाषण में ज़ायोनी शासन के कब्जे के उपायों पर अपना विरोध जताया, जिसका उद्देश्य आक्रामकता का विस्तार करना और इजरायल शासन के लिए वेस्ट बैंक के अधिक हिस्सों को एनेक्स करना था, और जॉर्डन से ज़ायोनी राजदूत के निष्कासन का भी आह्वान किया।
इकना ने जॉर्डन के अमुन समाचार एजेंसी के अनुसार बताया कि जॉर्डन संसद में फिलिस्तीनी आयोग के प्रमुख याह्या अल-सऊद ने 28 मई को कहा कि वह ज़ायोनी शासन के कब्जे के उपायों के विरोध में थे, जिसका उद्देश्य आक्रामकता का विस्तार करना और इजरायल शासन के लिए वेस्ट बैंक के अधिक हिस्सों को नष्ट करना था। इसी बात पर जोर दिया।
अल-सऊद ने इजरायल के कब्जे वाले बलों द्वारा जॉर्डन और वेस्ट बैंक क्षेत्रों में ज़ायोनियों के प्रवेश की चेतावनी के संकेतों को हटाने का उल्लेख करते हुए कहा: कि "इस कार्रवाई से पता चलता है कि इजरायल कब्जे के लिए अपने उद्देश्यपूर्ण प्रयासों को नहीं छोड़ेगा;"और इनकी  इस कार्रवाई ने फिलिस्तीन की सुरक्षा के अलावा, जॉर्डन की सुरक्षा को खतरे में डाल दिया है।
अल-सऊद ने जॉर्डन से ज़ायोनी राजदूत को निष्कासित करने की आवश्यकता पर जोर देते हुए  कहा: कि "अरबों के साथ संबंधों को सामान्य करने और जॉर्डन सरकार का विश्वास हासिल करने के लिए इज़राइल के कदमों की सीमा का विस्तार करने के लिए गंभीर हैं।" उसी समय, जॉर्डन ने ज़ायोनी शासन के आधिपत्य को रोकने के लिए एक उपयोगी और प्रभावी योजना या प्रतिक्रिया नहीं दी है, जिसने जॉर्डन और फिलिस्तीन की सुरक्षा को लक्षित किया है।
उन्होंने जॉर्डन के लोगों से इजरायल के खिलाफ एकजुट मोर्चा बनाए रखने का आह्वान किया और कहा: कि "इजरायल की कब्जे की योजनाओं के खिलाफ एकता बनाए रखने के लिए, फिलिस्तीन और इस भूमि के इस्लामी और ईसाई प्रतिबंधों के लिए इस बेकार शासन की कोई भी भयावह योजना लागू नहीं की जाएगी।
3901774
नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :
* captcha: