IQNA

15:06 - November 30, 2020
समाचार आईडी: 3475399
तेहरान (IQNA)हिब्रू भाषा के मीडिया ने बताया कि बहरीनी प्रतिनिधिमंडल ने अल-अक्सा मस्जिद में गुप्त रूप से और अपनी पहचान बताए बिना प्रार्थना की।

रायअल-यौम के हवाले से, इजरायली मीडिया ने बताया कि किंग हम्द इंटरनेशनल सेंटर फॉर पीसफुल कोएक्सैसेंस के न्यासी बोर्ड के अध्यक्ष खालिद बिन ख़लीफा अल खलीफा के नेतृत्व में एक बहरीनी प्रतिनिधिमंडल ने पिछले शुक्रवार को क़्बूज़ा फिलिस्तीन की यात्रा की, और पिछले जुमा को गुप्त रूप से और अपनी पहचान का खुलासा किऐ बिना अल-अक्सा मस्जिद में नमाज अदा की।
 
कल, रविवार, 29 नवंबर को एक इजरायली सेना रेडियो रिपोर्टर के साथ बहरीनी प्रतिनिधिमंडल के प्रमुख के साथ एक साक्षात्कार में इस ख़बर का पता चला और इज़राइल के सातवें चैनल सहित हिब्रू भाषा के मीडिया में प्रकाशित हुई।
 
खालिद बिन खलीफा ने बातचीत में स्वीकार किया: अगर अल-अक्सा मस्जिद बंदोबस्ती कार्यालय के अधिकारियों को बहरीनी प्रतिनिधिमंडल की उपस्थिति के बारे में सूचित किया जाता, तो वे इस समूह को अल-अक्सा मस्जिद में प्रवेश करने की अनुमति नहीं देते। फिलिस्तीनियों के लिए यह कहना बुद्धिमानी नहीं है कि हमें इजरायल के साथ संबंधों के सामान्य होने के कारण अल-अक्सा मस्जिद में प्रार्थना करने की अनुमति नहीं है।
इस बहरीन अधिकारी ने दावा किया कि कई शियाओं सहित बहरीन के 90% लोग,इजरायल के साथ संबंधों के सामान्यीकरण से सहमत हैं, और बहरीन शिया पर्यटक जल्द ही इजरायल की यात्रा करेंगे।
 
उन्होंने इजरायली शासन की प्रशंसा करते हुए कहा: यहां सह-अस्तित्व और दूसरों की स्वीकृति है। यदि इज़राइल में मुसलमानों को अपने धार्मिक संस्कार करने से रोका जाता, तो वे इज़राइल छोड़ देते!
 
खालिद बिन ख़लीफा ने भी इजरायल के पर्यटकों को बहरीन की यात्रा के लिए संबोधित करते हुए कहा: अपनी पहचान प्रकट करने से मत डरें, बहरीन में आपका हार्दिक स्वागत है!
 
पिछले सितंबर में, बहरीन और संयुक्त अरब अमीरात ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की देखरेख में इजरायल के साथ संबंधों को सामान्य बनाने के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किए, जिसका अधिकांश अरब और इस्लामिक देशों ने विरोध किया और दुनिया भर के मुसलमानों ने इसकी निंदा की।
 3938238
नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :
* captcha: