IQNA

आयतुल्लाह नजफ़ी:
14:33 - March 07, 2021
समाचार आईडी: 3475687
तेहरान(IQNA)इराक़ में शिया धर्मगुरू अयातुल्ला बशीर हुसैन नजफ़ी, नजफ़ के गवर्नर और लंदन में सेंटर फॉर रिलिजियस डायलॉग के प्रमुख ने उन अफ़वाहों का जिनमें कहा गया था कि पोप की इराक़ यात्रा को ज़ायोनी शासन के साथ संबंध को आगे बढ़ाने के प्रयासों से जोड़ा जा रहा था खंडन किया और स्पष्ट किया: अयातुल्ला सिस्तानी ने जिओनिस्ट शासन के साथ संबंध को सामान्य बनाने का प्रचार करने वालों पर रास्ता बंद कर दिया।

अल-मलूमा समाचार वेबसाइट के हवाले से, इराक़ी घरेलू और विदेशी पार्टियों ने उन अफवाहों का गंभीरता से खंडन किया है जिनमें कहहा जा ररहा था कि पोप वेटिकन की इराक़ यात्रा क्षेत्र में सुलह प्रक्रिया से संबंधित है।
 
इराक़ में शिया धार्मिक प्राधिकरण, अयातुल्ला बशीर हुसैन नजफ़ी, ने आज रविवार को एक संदेश में जो शेख़ अली नजफी, अयातुल्ला बशीर नजफी के बेटे और
प्रतिनिधि द्वारा पढ़ा गया जोर दिया: उच्च रैंकिंग वाले इराकी धार्मिक प्राधिकरण ने इस परियोजना ज़ायोनी शासन के साथ रिश्ते को सामान्य बनाने के ताबूत मे कील ठोक दी। और संभव नहीं है कि नजफ़ अशरफ़ में ऐसी परियोजनाओं को मंजूरी दी जाए।
 
उन्होंने अयातुल्लाह सीस्तानी और पोप फ्रांसिस को ईसाई और इस्लाम के पिरामिड के शीर्ष का वर्णन किया, और कहाः कि धर्मों की अंतर-वार्ता कोई नई बात नहीं और श्री पोप के साथ अयातुल्लाह सीस्तानी का मिलना उस दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।
 
अयातुल्ला नजफ़ी ने सर्वोच्च शिया प्राधिकरण के संवाद को मानवता के लिए महत्वपूर्ण बताया और कहा: अयातुल्ला सीस्तानी अल्पसंख्यकों सहित सभी लोगों के रक्षक हैं।
 
नजफ़ के गवर्नर: अयातुल्लाह सीस्तानी ने समझौता प्रमोटरों पर रास्ता बंद कर दिया

नजफ अशरफ़ के गवर्नर लुई अल-यासेरी ने भी आज, रविवार को जोर देकर कहा कि ज़ायोनी शासन के साथ संबंधों के सामान्यीकरण के बारे में अयातुल्लाह सीस्तानी का संदेश बिल्कुल स्पष्ट है और ग़ासिब शासन के साथ नजफ़ के सामान्यीकरण की बात करना गैर-जिम्मेदाराना है।
 
उन्होंने कहा: आयतुल्लाह सीस्तानी ने ज़ायोनी शासन के साथ संबंधों के सामान्यीकरण के प्रवर्तकों के लिए रास्ता बंद कर दिया।
 
अलयासरी ने यह भी कहा कि पोप का दौरा स्थानीय और क्षेत्रीय स्तरों पर नजफ़ के फैसले के महत्व को दर्शाता है।
 
नजफ़ के गवर्नर ने अयातुल्लाह सीस्तानी और पोप के बीच क्षेत्र के महत्वपूर्ण बिंदुओं के बारे में बातचीत का जिक्र करते हुए कहा: अयातुल्लाह सीस्तानी केवल शियाओं से संबंधित नहीं है।
 
इंटरफेथ डायलॉग के लिए अवेयरनेस फाउंडेशन: पोप यात्रा का कंप्रोमाइज से कोई लेना-देना नहीं है

लंदन स्थित अवेयरनेस फॉर रिलिजन डायलॉग फ़ाउंडेशन के कार्यकारी निदेशक पुजारी नदीम नस्सार ने भी जोर देकर कहा कि पोप की इराक़ यात्रा का इजरायल शासन के साथ संबंधों को सामान्य बनाने की परियोजना से कोई लेना-देना नहीं और यह कि अयातुल्लाह सीस्तानी के साथ पोप की बैठक ऐतिहासिक और अभूतपूर्व थी।
 
यह बताते हुए कि पोप का इजरायली शासन के साथ सामान्यीकरण परियोजना से कोई लेना-देना नहीं था, नस्सार ने चेतावनी दी कि कुछ लोग इराक़ के पतन और उसकी सभ्यता के विनाश का हिसाब कर रहे हैं।
 
उन्होंने कहा: "अयातुल्लाह सीस्तानी की इराक़ में एक महत्वपूर्ण स्थिति है और पोप के साथ उनकी बैठक स्पष्ट थी।
 
नस्सार ने कहाः पोप फ्रांसिस की इराक की यात्रा के परिणामों को राजनीतिक और धार्मिक निर्णयों की आवश्यकता है।
 
पोप फ्रांसिस द्वितीय ने शुक्रवार से इराक़ की आधिकारिक यात्रा को अंजाम दिया, जिसके दौरान उन्होंने इराकी संघीय सरकार के अधिकारियों, एक उच्च रैंकिंग वाले शिया प्राधिकरण और इराकी कुर्दिस्तान क्षेत्रीय सरकार के अधिकारियों के साथ मुलाकात की।
3958068 

नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :
* captcha: