IQNA

9:15 - January 08, 2020
समाचार आईडी: 3474329
अंतर्राष्ट्रीय समूह __ इस्लामिक रिवोल्यूशनरी गार्ड कॉर्प्स एयर फ़ोर्स द्वारा भारी बैलिस्टिक मिसाइल हमलों का इराक़ में ऐनुलअसद अमेरिकी बेस, जहां अमेरिकी सैनिक तैनात हैं निशाना बना।

IQNA की रिपोर्ट सिपाह पब्लिक रिलेशंस के अनुसार; रइस्लामिक रिवोल्यूशनरी गार्ड कॉर्प्स ने एक बयान में बताया कि इस्लामिक रिवोल्यूशनरी गार्ड कॉर्प्स (ISAF) ने मेजर जनरल हाज क़ासिम सुलेमानी और उनके साथियों की नृशंस हत्या के बदले में अल-असद में अमेरिकी ठिकाने पर रॉकेट-चालित ग्रेनेड दागे जाने की सूचना दी।
بسم القاصم الجبارین
ऐ दुःखी इस्लामी उम्मा, महान राष्ट्र और शहीद परवर इस्लामी ईरान
 
अमेरिकी आक्रमणकारियों के आपराधिक और आतंकवादी कार्रवाई और क्रांतिकारी क़ुद्स बल ऑफ़ रिवोल्यूशनरी गार्ड्स के वीर और बलिदान कमांडर नायक केप्टन शहीद हाज सुलैमानी और उनके साथियों की वीभत्स हत्या के जवाब में, आज सुबह सर्वशक्तिमान भगवान की अनुमति से सच्चे वादे के पूरा करने का समय हो गया है। IRGC एयरोस्पेस बल बहादुर योद्धाओं ने एक सफल ऑपरेशन ब नाम "शहीद सोलीमनी", के दौरान, पवित्र कोड नाम या ज़हरा (अ.स.) के साथ ऑपरेशन ऐनुल-असद नामक आतंकवादियों के कब्जे वाले अमेरिकी सेना के अड्डे पर ने दसियों जमीन से सतह पर मिसाइलें दागीं। इसके विवरण अंत तक ईरान के शरीफ़ राष्ट्र और इस्लामी दुनिया के मुक्त लोगों तक पहुंचेंगे।
 
इस्लामिक रिवोल्यूशनरी गार्ड कॉर्प्स इस महान जीत पर इस्लामी उम्माह को बधाई देने के साथ उठ खड़ी हुई है और इस्लामी ईरान की महान समर्पित लोगों को बता रही है:
 
1. हम महान शैतान, अहंकार और ज़ालिम अमेरिकी शासन को चेतावनी देते हैं, कि आगे किसी भी शरारत, अत्याचार या अन्य हरकत के परिणामस्वरूप अधिक दर्दनाक और क्रूर प्रतिक्रिया होगी।
 
2. अमेरिकी सरकार के मित्र देशों जिन्होंने अपने ठिकानों को आतंकवादी सेना को सौंप दिया है, को चेतावनी दी जारही कि किसी भी क्षेत्र, जो भी इस्लामी गणतंत्र ईरान के खिलाफ शत्रुतापूर्ण और आक्रामक कृत्यों का मूल है, को लक्षित किया जाएगा।
 
3. हम किसी भी तरह से अमेरिकी आपराधिक शासन के इन अपराधों में ज़ायोनी शासन के संबंध को अलग नहीं समझते हैं।
 
2. हम अमेरिकी लोगों को नसीहत करते हैं कि आगे के हताहतों की संख्या को रोकने के लिए उन्हें बुला लिया जाए और क्षेत्र में अमेरिकी सैनिकों को अमेरिका-आधारित जनविरोधी शासन की बढ़ती घृणा से खतरे में डालने की अनुमति न दें।
و ما النّصر الّا من عند اللّه العزیز الحکیم
3870122

 

नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :