IQNA

16:11 - August 02, 2020
समाचार आईडी: 3475012
तेहरान(IQNA)"बीबी हैबत" का रौज़ा बाकू में एक स्पष्ट तीर्थ है और इमाम रज़ा (अ.स.) की बहन "फ़ातेमा सुग़रा" का मक़बरा है, कि हर साल अहले-बैत (अ.स) के बड़ी संख्या में प्रेमियों द्वारा दौरा किया जाता है।

इमाम रज़ा (अ.स.) के प्रिय पिता हज़रत मूसा काज़िम (अ.स.) की कई महान बेटियों को "फ़ातेमा" कहा जाता था। मुहद्दिषीन, इतिहासकार, जीवनीकार और वंशावलीविदों(नसब जानने वालों) ने हज़रत मूसा इब्न जाफ़र (अ.स) की बेटियों की गिनती करते समय फ़ातिमा नाम की कई लड़कियों का उल्लेख किया है।
 
सातवीं शताब्दी में महान सुन्नी विद्वानों में से एक, सिब्ते इब्न जौज़ी इमाम मूसा काज़िम (अ.स) के बच्चों की गिनती करते समय "फ़ातेमा कुबरा", "फ़ातेमा सुग़रा", "फ़ातेमा वुस्ता" और " फ़ातेमा उख़रा" नाम की चार लड़कियों का उल्लेख किया।
 
"फ़ातेमा कुबरा" का रौज़ा जिसे हज़रत मासूमह (अ.) के नाम से जाना जाता है, क़ुम में स्थित है और यह एक शानदार तीर्थस्थल है, जहाँ देश के अंदर और बाहर से हर दिन ख़ानदाने इस्मत व तहारत के हजारों की संख्या में प्रेमी ज़ियारत के लिऐ आते हैं।
 
फ़ातेमा सुग़रा (अ.) के हरम को "बीबी हैबत" के नाम से जाना जाता है, जो आज़रबैजान गणराज्य की राजधानी बाकू के प्रवेश द्वार पर स्थित है। "फ़ातेमा वुस्ता" जिसे "सेती फ़ातेमा" के रूप में जाना जाता है, "इस्फ़हान" में था और एक शानदार पुराना रौज़ा है। "फ़ातेमा उख़रा" का रम जिसे "इमाम की बहन" के नाम से भी जाना जाता है, "रश्त" में स्थित है।
 
बाकू में "बीबी हैबत" का आस्ताना सदियों से शियाओं और अहलेबैत (अ.स) के प्रेमियों के लिए विशेष रुचि का केंद्र रहा है, कि दुनिया भर दूरतरीन जगहों से यात्रा करते हैं और इनके पवित्र हरम तक पहुंचते हैं।
 
साम्यवाद के उदय और अन्य इस्लामी देशों के साथ संबंधों के विच्छेद के बाद, यात्रा को काट दिया गया और उन हज़रत का रौज़ा सोवियत कम्युनिज्म के नेता और राजनेता "जोसेफ़ स्टालिन" के आदेश से सितंबर 1936 में डायनामाइट से उड़ा दिया गया था और पवित्र कब्र पर डामर डाल दिया गया।
 
कम्युनिस्ट शासन के पतन के बाद, शियाओं ने उन हज़रत के पवित्र हरम के पुनर्निर्माण के लिए बहुत प्रयास किए और पहले चरण का उद्घाटन समारोह 1419,17 रबी अल-अव्वल के दिन हुआ, जो पैगंबर (पीबीयूएच) की जयंती और शियों के छठे इमाम जाफ़र सादिक़ (अ.) की जयंती के समय हुआ।
 
हज़रत "बीबी हैबत" बाकू और शिया लोगों के बीच "हकीमा" लक़ब रखती है और इसे "बीबी हैबत" के रूप में जानी जाती है; जैसा कि कई स्रोतों में उल्लेख किया गया है, उनका सम्मानित नाम हज़रत "फ़तेमा सुग़रा" है, कि उस क्षेत्र में "हकीमा" उपनाम दिया गया और बीबी हैबत के रूप में जाना जाता है।
3914131
नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :
* captcha: