IQNA

कुरान के पात्र / 10

हूद नबी; पहले अरबी भाषा वाले पैगंबर

14:56 - September 26, 2022
समाचार आईडी: 3477814
तेहरान(IQNA) हुद पैगंबर नूह के वंशजों में से एक है जिन्होंने अपने लोगों का मार्गदर्शन करने के लिए 700 से अधिक वर्षों का समय बिताया, लेकिन वह सफल नहीं हुए और भगवान ने उनके लोगों को कड़ी सज़ा दी। वह सज़ा जो उनके विनाश का कारण बनी।

हूद दैवीय नबियों में से ऐक और पैगंबर नूह के वंशजों में से थे, जो सात वास्तों के माध्यम से उन तक पहुंचते हैं।
इस दिव्य नबी के जीवन इतिहास के बारे में अलग-अलग कथन हैं; कुछ ने इब्राहीम (अ.स.) के बाद और मूसा (अ.स.) से पहले हुद (अ.स.) के जीवन के समय को माना है और अन्य लोग इब्राहीम (अ.स.) से पहले हुद (अ.स.) के समय को बताया है। किसी भी स्थिति में; हूद (अ.स.) नूह (अ.स.) का वंशज थे, लेकिन वह उन नबियों में से नहीं थे जिसे अब्राहम (अ.स.) का वंशज माना जाता हो।
हूद अरबी बोलते थे और कुछ ने उन्हें पहला अरब पैगंबर माना है। जैसा कि इमाम अली (अ.स) ने उनके बारे में कहा: "हुद, सालेह, शोएब, इस्माइल और इस्लाम के पैगंबर अरबी बोलते थे।"
 हूद का नाम पवित्र कुरान में 10 बार उल्लेख किया गया है और 11वें सूरह के नाम को भी "हुद" नाम दिया गया है। हालाँकि पवित्र कुरान में हज़रत हुद (pbuh) की कहानी का कई बार उल्लेख किया गया है, लेकिन इस नबी का नाम तौरेत और हमारे लिए उपलब्ध बाइबिल में नहीं है।
हूद चालीस साल की उम्र में नबी हुऐ। वह नूह (pbuh) के बाद दूसरे नबी थे जो मूर्तिपूजा के खिलाफ़ खड़े हुऐ और लड़े। वह आद के लोगों के पैगंबर थे और उन्हें भगवान की पूजा के लिए आमंत्रित करने और मूर्तियों की पूजा करने से रोकने के लिए नियुक्त किया गया था, लेकिन भले ही उनके लोग हूद को एक भरोसेमंद और ईमानदार व्यक्ति मानते थे, फिर भी उन्होंने उसे पागल कहा और उसका उपहास किया। इसलिए, भगवान ने उन्हें ठंडी हवा से दंडित किया, और आद के लोगों से, केवल हज़रत हुद और कुछ ईमान वाले बच गए। कुरान की आयतों के अनुसार, यह ठंडी हवा "लगातार सात रातें और आठ दिन" तक उन पर हावी रही। अरब के इतिहास में, बूढ़ी औरत के ठंडे दिनों(बरदुल-अजूज़) के रूप में जाना जाता है, जिसे कुछ लोग आद के लोगों की सजा मानते हैं।
ऐसा कहा जाता है कि हज़रत हुद (अ.स) ने 760 वर्षों तक अपने लोगों का मार्गदर्शन किया। हूद के लंबे जीवन और कुछ अन्य संकेतों के कारण, कुछ लोगों ने पैगंबर नूह (pbuh) और पैगंबर हुद (pbuh) के बीच समानता का सुझाव दिया है। साथ ही कुरान में इन दोनों नबियों के उद्धृत वाक्यों में कई समानताएं हैं।
हदीषों के अनुसार, हूद और उनके अनुयायी मक्का गए और वहां बस गए और अपने जीवन के अंत तक वहीं रहे। कुछ लोगों ने दमिश्क को हूद की कब्रगाह के रूप में भी वर्णित किया है। सीरिया में होम्स और इराक़ में नजफ अन्य स्थान हैं जिनका उल्लेख हूद के मक़बरे के रूप में किया गया है।
कीवर्ड: ईश्वरीय पैगंबर, हूद नबी, अरबी भाषी पैगंबर, ईश्वरीय दंड, नब्यों का भाग्य

संबंधित समाचार
नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :
captcha