IQNA

कुरान का पालन करने की आवश्यकता पर मलेशिया के प्रधान मंत्री का ज़ोर

15:26 - July 03, 2022
समाचार आईडी: 3477526
तेहरान(IQNA)मलेशिया के प्रधान मंत्री ने कहा कि धर्म के बारे में गलतफ़हमी से निपटने और मुसलमानों के बीच विभाजन को रोकने का तरीका पवित्र कुरान और पैगंबर (PBUH) की सुन्नत पर अमल करना है।

स्टार के अनुसार, मलेशिया के प्रधान मंत्री, इस्माइल सबरी याकूब ने इस बयान के साथ कि मतभेद सम्मानजनक और नैतिक होना चाहिए, कहा: यदि मुसलमान कुरान और पैगंबर की सुन्नत का पालन करके प्रामाणिक इस्लामी शिक्षाओं की ओर लौटते हैं, तो विभाजन के बीज का मुकाबला किया जा सकता है। कुरान आम तौर पर एकता की भावना पर जोर देता है।
 
उन्होंने ये शब्द पेटालिंग जाया में 2022 के दक्षिणपूर्व एशियाई विद्वानों के सम्मेलन के दौरान अपने भाषण में कहे।
 
पहली बार आयोजित इस सम्मेलन में विश्व मुस्लिम संघ के महासचिव शेख मुहम्मद अब्दुल करीम अल-ईसा सहित दुनिया के 17 देशों के प्रतिनिधिमंडल और धार्मिक हस्तियां भी मौजूद थीं।
 
मलेशिया के प्रधान मंत्री ने इसी तरह भारत में इस्लाम के पैगंबर (PBUH) के बारे में अपमानजनक शब्दों के मुद्दे का भी उल्लेख किया और इसे एक उत्तेजक कार्य के रूप में वर्णित किया जो भारत के बहुलवादी धार्मिक समाज के सद्भाव के लिए ख़तरा है।
 
इस्माइल सबरी याक़ूब ने कहा कि यह घटना न केवल भारतीय मुसलमानों के विरोध का कारण बनी, बल्कि मलेशिया सहित अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को भी विरोध करना पड़ा।
 
उनके अनुसार, पैगंबर मुहम्मद (PBUH) का अपमान करना बेहद संवेदनशील मामला है और मुसलमान प्रतिक्रिया करने के लिए बाध्य हैं, लेकिन धर्म के ढांचे में आदेश के अनुसार।
 
उन्होंने जोर दिया: यह हमें कुछ वर्गों द्वारा खेले जाने वाले खेलों में फंसने से रोकने के लिए है जो विभिन्न धर्मों के अनुयायियों के बीच दुश्मनी पैदा करना चाहते हैं।
 
इस्माइल सबरी याक़ूब ने भी ज़ायोनी शासन के उत्पीड़न की निंदा की, जो फिलिस्तीनियों को बेरहमी से दबाने और मारने के लिए जारी है।
 4068073

नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :
* :