IQNA

मिस्र की समाचार वेबसाइट ने लिखा:
15:46 - June 30, 2020
समाचार आईडी: 3474899
तेहरान (IQNA) मिस्र के अल-यौम अल-साबेअ समाचार वेबसाइट ने एक रिपोर्ट में मौलाना जलालुद्दीन बल्खी के मसनवी दीवान का परिचय देते हुए इसे एक स्थायी काम माना है जिसकी कविताएँ कुरान की आयतों की अभिव्यक्ति हैं।

इकना ने मिस्र के अल-यौम अल-साबेअ समाचार वेबसाइट के अनुसार बताया : युवाओं और बड़ों के पसंदीदा ऐतिहासिक स्मारकों में से एक मौलाना जलालुद्दीन रूमी का मसनवी दीवान है। पुस्तक को 2002 में वर्ल्ड लाइब्रेरी ऑफ बोलोग्ना (नॉर्वेजियन बुक एसोसिएशन) द्वारा इतिहास में शीर्ष 100 साहित्यिक कार्यों में स्थान दिया गया था।
मिस्र की इस साइट जारी रख़ते हुए कहा कि : मसनवी फ़ारसी भाषा में एक कविता संग्रह है जिसकी साहित्यिक ख्याति बहुत है और इसे विभिन्न भाषाओं में अनुवादित किया गया है और इसके बारे में कई साहित्यिक और आलोचनात्मक किताबें और शोध लिखे गए हैं।
अल-यौम अल-साबेअ कहता है: कि मसनवी सबसे महत्वपूर्ण रहस्यमय पुस्तकों और सबसे प्रभावशाली कार्यों में से एक है, ताकि कुरान की आयते इसमें प्रकट हों और कई आलोचक और लेखक इसे साहित्य की सबसे बड़ी रहस्यमय कविता मानते हैं। पुस्तक में २५,६३२ बैत हैं और छह खंड हैं, जिसमें ४२४ कहानियों में अपने संपूर्ण प्रेम, ईश्वर की प्राप्ति में मनुष्य की कठिनाइयों के बारे में बताया गया है।
अल-यौम अल-साबेअ ने आगे लिखा: कि जलालुद्दीन रूमी एक रहस्यवादी कवि थे और उनकी कविता की प्रस्तावना इतनी सुंदर है कि प्राच्यविदों ने उन्हें अब तक का सबसे बड़ा रहस्यमय कवि माना है और उन्हें "एलाही प्रेम" का सबसे बड़ा कवि मानना ​​अजीब नहीं है।
जलालुद्दीन रूमी ने एक संस्मरण लिखा, जिसने मानवता के पुस्तकालय को समृद्ध किया, और शम्स तबरीज़ी, मसनवी मनवी और क्वार्टर ऑफ़ पोएम्स एंड लेटर्स (रूमी का वन हंड्रेड एंड फिफ्टी कलेक्टर्स कलेक्शन) और सबा असेंबलीज़ (रूमी की उपदेश और सभा संग्रह) को समृद्ध किया। ।
यह आध्यात्मिक और रहस्यमय सूरज अंत मेः 1273 ईस्वी में अपने ख़ुदा से जा मिले।
3907759
टैग: ،
नाम:
ईमेल:
* आपकी टिप्पणी :
* captcha: